एचआईटीके के पूर्व छात्र ने बनाया सेल्फ क्लीनिंग रियूजेबल फेस मास्क

0
107

कोलकाता : हेरिटेज इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एचआईटीके) डिपार्टमेंट ऑफ बायोटेक्नोलॉजी, बैच -2008 के पूर्व छात्र डॉ अमित जायसवाल, वर्तमान में आईआईटी मंडी में एसोसिएट प्रोफेसर हैं, ने अपनी टीम के साथ कोविड के प्रसार को रोकने के लिए एक सेल्फ क्लीनिंग रियूजेबल फेस मास्क का आविष्कार किया है। इस मास्क को बनाने के लिए नैनोमीटर आकार की चादरों का उपयोग किया गया है जो मानव बाल की चौड़ाई से 100000 गुना छोटी हैं जो रोगाणुओं को साफ कर सकती हैं और सौर प्रकाश से साफ करने योग्य हैं। यह कपड़े की सांस लेने की क्षमता से समझौता किए बिना 96 प्रतिशत वायरस को साफ कर सकता है जो कोविड -19 के आकार की सीमा में हैं।
हाल ही में डॉ. अमित ने आईआईटी मंडी में संस्थान के मुख्य वार्डन के रूप में संस्थान सेवा में उत्कृष्टता के लिए स्थापना दिवस पुरस्कार 2021 प्राप्त किया। हेरिटेज इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी कोलकाता के प्रिंसिपल प्रोफेसर बासब चौधरी ने कहा, “यह हमारे संस्थान के लिए एक अच्छी खबर है और हमें डॉ अमित पर गर्व है।”

 

Previous articleरोबोटिक तकनीक से स्थानीय व्यवसायियों की मदद कर रही है श्रुति
Next articleबीएचएस में आयोजित हुआ ‘ओडिशी’
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seventeen + six =