कल्याणी विश्वविद्यालय में‘एम. ए. हिन्दी पाठ्यक्रम नवीनीकरण’ विषय पर राष्ट्रीय कार्यशाला

0
43
 हिन्दी विभाग द्वारा ने आयोजित की कार्यशाला
कल्याणी। कल्याणी विश्वविद्यालय के हिन्दी विभाग द्वारा ‘एम.ए. हिंदी पाठ्यक्रम नवीनीकरण’ विषय पर एक दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला के सफल आयोजन में कल्याणी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. मानस कुमार सान्याल की अहम भूमिका रही।कार्यक्रम के उद्घाटन सत्र में मुख्य अतिथि प्रो. दामोदर मिश्र, कुलपति, हिन्दी विश्वविद्यालय, विशिष्ट अतिथि के रूप में, प्रो. गौतम पाल, उपकुलपति, कल्याणी विश्वविद्यालय, प्रो. अमलेंदु भुइयां, अधिष्ठाता, कला एवं वाणिज्य विभाग, इसके साथ ही परामर्श के रूप में कल्याणी विश्वविद्यालय, आई. क्यू. ए. सी. के निदेशक प्रो. नन्द कुमार घोष एवं लोक संस्कृति विभाग के अध्यक्ष प्रो. सुजय कुमार मण्डल कार्यक्रम में उपस्थित थे। कार्यशाला का विषय-प्रवर्तन विभाग की अध्यक्ष डॉ. विभा कुमारी जी ने किया एवं  उद्घाटन सत्र का संचालन विभाग के प्रो. हिमांशु कुमार ने किया।
तकनीकी सत्र में बतौर विषय विशेषज्ञ अपनी बात रखते हुए  प्रो. मुक्तेश्वर नाथ तिवारी, विश्वभारती, शांतिनिकेतन ने कहा कि प्रस्तावित पाठ्यक्रम में नए-पुराने विषयों के संतुलन का संतुलन रखा गया है। प्रो.विजय कुमार भारती, काज़ी नजरुल विश्वविद्यालय ने पाठ्यक्रम को सामाजिक-सांस्कृतिक परिवर्तन की पृष्ठभूमि के रूप में देखने की बात कही। प्रो. आशीष त्रिपाठी, बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय ने प्रस्तावित पाठ्यक्रम का बेहद बारीक विश्लेषण करते हुए कहा कि एक आदर्श पाठ्यक्रम में हर  क्षेत्र का प्रतिनिधित्व होना चाहिए। अध्यक्षीय वक्तव्य में प्रो. दामोदर मिश्र सर ने पाठ्यक्रम बनाने की चुनौतियों एवं सीमाओं की विस्तारपूर्वक चर्चा की एवं उन्होंने पाठ्यक्रम पर तटस्थ होकर विचार करने की आवश्यकता को समझा और पाठ्यक्रम को संतुलित बनाने पर जोर दिया।
प्रतिभागियों में प्रो. संजय कुमार जायसवाल, विद्यासागर विश्वविद्यालय ने कहा कि यह पाठ्यक्रम रोजगारमूलक होने के साथ सामाजिक, राष्ट्रीय ,स्थानीय एवं लोक संस्कृति का समावेश है। समकालीन साहित्य को जोड़ने से वर्तमान समय के साथ विद्यार्थियों की एक वैचारिक समझ विकसित होगी। प्रो. रामप्रवेश रजक, कलकत्ता विश्वविद्यालय, ने प्रवासी साहित्य, लोक साहित्य एवं गीत गजल को पाठ्यक्रम में रखने की बात कही। इस अवसर पर सुनीता मण्डल, रमेश यादव, अरुण प्रसाद रजक, दीक्षा गुप्ता आदि आगत शिक्षकों ने अपने सुझावों से कार्यशाला को अर्थपूर्ण बनाया।
तकनीकी सत्र का संचालन  शोधार्थी अनूप कुमार गुप्ता, तकनीकी संयोजन शोधार्थी विकास कुमार एवं पवन कुमार साव एवं अन्य शोधार्थियों और धन्यवाद ज्ञापन डॉ. हिमांशु कुमार ने दिया।
Previous articleइक्कीसवीं शताब्दी के इक्कीस वर्ष : हिंदी साहित्य पर सीयू में गोष्ठी
Next articleभारतीय भाषा परिषद में युवा लेखन कार्यशाला का उद्घाटन
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two × four =