कैट की परीक्षा में 3 बार फेल, फिर आईआईएम के एमबीए चायवाला 

0
57

एक हाथ ठेले से शुरू हुआ सफर अब 200 शहरों में फैलने वाला है। हम बात कर रहे हैं एमबीए चाय वाला के नाम से मशहूर प्रफुल्ल बिल्लौरे की। देश के 100 शहरों में अपना कारोबार जमाने के बाद अब वे इसे 200 शहरों में फैलाने जा रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने 500 लोगों को नौकरी देने की योजना भी बनाई है।
दक्षिण भारतीय शहरों में खोलेंगे स्टोर
प्रफुल्ल ने अपने कारोबार का विस्तार करने की तैयारी कर ली है और एमबीए चाय वाला के नए स्टोर्स में करीब 500 लोगों को रोजगार देने की योजना बनाई है। भोपाल, श्रीनगर, सूरत, दिल्ली समेत अन्य 100 शहरों में कारोबार जमाने के बाद अब प्रफुल्ल दक्षिण भारत में जाने का मन बना रहे हैं।
इन शहरों में विस्तार की है योजना
प्रफुल्ल बिल्लौरे के नेतृत्व वाली चाय कैफे श्रृंखला एमबीए चायवाला इस साल के अंत तक 200 भारतीय शहरों में अपने स्टोर्स को स्थापित करना चाहती है। उम्मीद है कि इससे लगभग 1,000 से ज्यादा नौकरियां पैदा होंगी, लेकिन फिलहाल 500 लोगों को नौकरी पर रखने की तैयारी की गई है। प्रफुल्ल का कहना है कि एमबीए चाय वाला उत्तर भारत के बाद अब देश के दक्षिणी हिस्से में विस्तार करेगा। उन्होंने कहा कि वे चेन्नई , बेंगलुरु, बेलगाम, तिरुपति और अन्य हिस्सों में अपने स्टोर लॉन्च करेंगे।
एक उपाय ने बदल दी किस्मत
मध्य प्रदेश के एक किसान के बेटे प्रफुल्ल बिल्लौरे का सपना दरअसल, एमबीए करके मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी करने का था. लेकिन कैट परीक्षाओं में लगातार तीन असफल प्रयासों के बाद उन्हें एमबीए शब्द को लेकर व्यवसाय का आइडिया आया। फिर क्या था आईआईएम अहमदाबाद के बाहर ही 2017 में उन्होंने चाय का ठेला लगा दिया और इसका नाम दिया एमबीए चायवाला । इसके बाद उनके कारोबार ने जो रफ्तार पकड़ी उसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि ‘मिस्टर बिल्लौर अहमदाबाद’ के रूप में पहचान बना चुके प्रफुल्ल हजारों लोगों को रोजगार दे रहे हैं और उनका टर्नओवर करोड़ों रुपये का है।
हर महीने खुल रहे 10-15 स्टोर्स
रिपोर्ट के मुताबिक, फिलहाल एमबीए चाय वाला हर महीने 10-15 फ्रैंचाइजी स्टोर खोल रहा है। इनमें से प्रत्येक स्टोर ब्रांड नाम एमबीए चाय वाला के तहत संचालित किया जाता है। कंपनी अपनी फ्रेंचाइजी बेचने के लिए सालाना आधार पर 20 लाख रुपये तक वसूलती है। कमाई के बारे में प्रफुल्ल कहते हैं कि उनका अहमदाबाद स्थित मूल स्टोर एक महीने में 17 लाख रुपये तक कमाता है। उन्होंने कहा कि हमारा एक औसत स्टोर सात कर्मचारी और एक छोटा आउटलेट करीब पांच लोगों को रोजगार दे रहा है। इस तरह 100 शहरों में और विस्तार करने से हम 500 लोगों को नौकरी दे सकेंगे।

Previous articleएचआईटीके को मिला नैक में ए ग्रेड
Next articleकोलकाता मेट्रो के सियालदह स्टेशन का उद्घाटन
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

5 × 5 =