जज़्बात

0
109

– श्वेता गुप्ता

जज्बातों को दिल में छुपाए फिरते हैं,
उन लम्हों को पलकों में बिछाए रखते हैं,
दर्द हो तो होटों को सी लिया करते हैं,
बेचैनियों को चुप्पी में दबाएं रखते हैं।

वो कहते हैं कि क्यों, बयां नहीं करते हाले दिल अपना,
वो कहते हैं कि क्यों, बयां नहीं करते हाले दिल अपना…
लफ्जों को छोड़, हम अश्कों मैं बयां करते हैं।
सोचते हैं कि अब, एहसास होगा उन्हें मेरी तरप का मगर,
वो हर बार हंसी में उड़ा दिया करते हैं।

जिंदगी अब ऐसे मझधार में आ गई है,
वो कहते हैं कि तुम्हें चीजों की समझ थोड़ी कम है,
हम मुस्कुरा कर सर झुका लिया करते हैं।

उम्मीदों की कश्ती को किनारा मिल जाए,
भटके राही को सहारा मिल जाए,
किस्मत से लड़ना छोड़ दिया हमने,
खुदा से रिश्ता जोड़ लिया हमने।

Previous articleपितर पक्ष
Next articleकन्हैया लाल सेठिया..रचनाकर्म पर कुछ बातें.. तीसरा और अंतिम भाग
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

14 − 11 =