जानिए अशोक स्तम्भ की कहानी

0
33

हमारा जो राष्‍ट्रीय प्रतीक है, वह अशोक स्‍तंभ का शीर्ष भाग है। मूल स्‍तंभ के शीर्ष पर चार भारतीय शेर एक-दूसरे से पीठ सटाए खड़े हैं, जिसे सिंहचतुर्मुख कहते हैं। सिंहचतुर्मुख के आधार के बीच में अशोक चक्र है जो राष्‍ट्रीय ध्‍वज के बीच में दिखाई देता है।
केवल सात स्‍तंभ ही बच पाए, सारनाथ वाला उनमें से एक
करीब सवा दो मीटर का सिंहचतुर्मुख आज की तारीख में सारनाथ म्‍यूजियम में रखा है। जिस अशोक स्‍तंभ का यह शीर्ष है, वह अब भी अपने मूल स्‍थान पर ही है। सम्राट अशोक ने करीब 250 ईसा पूर्व सिंहचतुर्मुख को स्‍तंभ के शीर्ष पर रखवाया था। ऐसे कई स्‍तंभ अशोक ने भारतीय उपमहाद्वीप में फैले अपने साम्राज्‍य में कई जगह लगवाए थे, जिनमें से सांची का स्‍तंभ प्रमुख है। अब केवल सात अशोक स्‍तंभ ही बचे हैं। कई चीनी यात्रियों के विवरणों में इन स्‍तंभों का जिक्र मिलता है। सारनाथ के स्‍तंभ का भी ब्‍योरा दिया गया था मगर 20वीं सदी की शुरुआत तक इसे खोजा नहीं जा सका था। वजह, पुरातत्‍वविदों को सारनाथ की जमीन पर ऐसा कोई संकेत नहीं मिलता था कि नीचे ऐसा कुछ दबा हो सकता है।
एक सिविल इंजिनियर जिसे आर्कियोलॉजी का ‘अ’ नहीं पता था
1851 में खुदाई के दौरान सांची से एक अशोक स्‍तंभ मिल चुका था। उसका सिंहचतुर्मुख सारनाथ वाले से थोड़ा अलग है। ब्रिटिश राज पर कई किताबें लिखने वाले मशहूर इतिहासकार चार्ल्‍स रॉबिन एलेन ने सम्राट अशोक से जुड़ी खोजों पर भी लिखा। अशोका :  द सर्च फॉर इंडियाज लॉस्ट एम्परर  में वह सारनाथ के अशोक स्‍तंभ की खोज का विवरण देते हैं। फ्रेडरिक ऑस्‍कर ओरटेल की पैदाइश जर्मनी में हुई थी। वह जवानी में जर्मन नागरिकता छोड़कर भारत आए और तबके नियमों के हिसाब से ब्रिटिश नागरिकता ले ली। रुड़की के थॉमसन कॉलेज ऑफ सिविल इंजिनियरिंग (अब IIT रुड़की) से डिग्री ली। रेलवे में बतौर स‍िविल इंजिनियर काम करने के बाद फ्रेडरिक ऑस्‍कर ओरटेल ने लोक निर्माण विभाग में ट्रांसफर ले लिया।
1903 में ओरटेल की तैनाती बनारस (अब वाराणसी) में हुई। सारनाथ की वाराणसी से दूरी बमुश्किल साढ़े तीन कोस होगी। ओरटेल के पास आर्कियोलॉजी का कोई अनुभव नहीं था, इसके बावजूद उन्‍हें इजाजत मिल गई कि वो सारनाथ में खुदाई करवा सकें। सबसे पहले मुख्‍य स्‍तूप के पास गुप्त काल के मंदिर के अवशेष मिले, उसके नीचे अशोक काल का एक ढांचा था। पश्चिम की तरफ फ्रेडरिक को स्‍तंभ का सबसे निचला हिस्‍सा मिला। आस-पास ही स्‍तंभ के बाकी हिस्‍से भी मिल गए। फिर सांची जैसे शीर्ष की तलाश शुरू हुई। एलेन अपनी किताब में लिखते हैं कि विशेषज्ञों को लगा कि किसी समयकाल में स्‍तंभ को जानबूझकर ध्‍वस्‍त किया गया था। फ्रेडरिक के हाथ तो जैसे लॉटरी लग गई थी। मार्च 1905 में स्‍तंभ का शीर्ष मिल गया।

फ्रेडरिक ने घर का नाम ‘सारनाथ’ रखा
जहां स्‍तंभ म‍िला था, फौरन ही वहां म्‍यूजियम यानी संग्रहालय बनाने के आदेश दे दिए गए। सारनाथ म्‍यूजियम भारत का पहला ऑन-साइट म्‍यूजियम है। अगले साल जब शाही दौरा हुआ तो फ्रेडरिक ने वेल्‍स के राजकुमार और राजकुमारी (बाद में किंग जॉर्ज पंचम और महारानी मेरी) को सारनाथ में अपनी खोज दिखाई। अगले 15 सालों के दौरान फ्रेडरिक ने बनारस, लखनऊ, कानपुर, असम में कई महत्‍वपूर्ण इमारतों का निर्माण करवाया। 1921 में वह यूनाइटेड किंगडम लौट गए। 1928 तक फ्रेडरिक लंदन के टेडिंगटन स्थित जिस घर में रहे, उसे उन्‍होंने ‘सारनाथ’ नाम दिया था। वह भारत से कई ऐतिहासिक कलाकृतियां, मूर्तियां अपने साथ ले गए थे।

अशोक स्‍तंभ का सिंहचतुर्मुख कैसे बना राष्‍ट्रीय प्रतीक?
सारनाथ में अशोक स्‍तंभ की खोज भारत में आर्कियोलॉजी की बेहद महत्‍वपूर्ण घटना है। जब भारत अंग्रेजों के चंगुल से आजाद हुआ तो एक राष्‍ट्रीय प्रतीक की जरूरत महसूस हुई। भारतीय अधिराज्य ने 30 दिसंबर 1947 को सारनाथ के अशोक स्‍तंभ के सिंहचतुर्मुख की अनुकृति को राष्‍ट्रीय प्रतीक के रूप में अपनाया। इधर संविधान ड्राफ्ट किए जाने की शुरुआत हुई। हाथों से लिखे जा रहे संविधान पर भी राष्‍ट्रीय प्रतीक उकेरा जाना था।

संविधान की हस्‍तलिखित प्रति को सजाने का काम मिला आधुनिक भारतीय कला के पुरोधाओं में से एक नंदलाल बोस को। बोस ने एक टीम बनाई जिसमें 21 साल के दीनानाथ भार्गव भी थे। बोस का मन था कि संविधान के शुरुआती पन्‍नों में ही सिंहचतुर्मुख चित्रित होना चाहिए। चूंकि भार्गव कोलकाता के चिड़‍ियाघर में शेरों के व्‍यवहार पर रिसर्च कर चुके थे, इसलिए बोस ने उन्‍हें चुना। 26 जनवरी, 1950 को ‘सत्‍यमेय जयते’ के ऊपर अशोक के सिंहचतुर्मुख की एक अनुकृति को भारत के राष्‍ट्रीय प्रतीक के रूप में स्‍वीकार किया गया।

नयी संसद ऐसी होगी
1921 से 1927 के बीच पुराने संसद भवन का निर्माण हुआ था। नया संसद भवन 64,500 वर्ग मीटर में फैला है जो अभी की इमारत से 17,000 वर्ग मीटर ज्‍यादा है। लोकसभा का आकार मौजूदा सदन से लगभग तिगुना होगा। लोकसभा में 888 सदस्यों के लिए सीटें होंगी। वहीं दूसरी ओर राज्यसभा में 326 सीटें होंगी। संयुक्त सत्र के दौरान 1224 सदस्य साथ में बैठ सकेंगे।
नई इमारत तीन मंजिला है। नए संसद भवन का डिजाइन त्रिकोणीय है। नई बिल्डिंग की डिजाइन में लोकसभा, राज्यसभा और एक खुला आंगन है। दोनों ही सदन सुविधाओं व डिजाइनिंग के लिहाज से स्टेट ऑफ आर्ट हैं।
वर्तमान संसद भवन का गेट आप दाईं ओर देख सकते हैं। नए संसद भवन का गेट आकार में बड़ा है। उसपर अशोक चक्र बना है और ‘सत्‍यमेव जयते’ लिखा है।
संसद भवन की छत पर एक गुंबद है। नई बन रही इमारत की छत पर 6.5 मीटर ऊंचा राष्‍ट्रीय प्रतीक ‘अशोक स्‍तंभ’ स्‍थापित किया गया है। इमारत में बड़ा सा कांस्टीट्यूशन हॉल, सांसदों के लिए लाउंज, एक लाइब्रेरी, कमिटी रूम, डाइनिंग एरिया और पार्किंग भी होगी। इसका बड़ा आकर्षण कांस्टीट्यूशन हॉल होगा, जहां भारत की लोकतांत्रिक विरासत को दर्शाने के लिए तमाम चीजों के साथ-साथ संविधान की मूल प्रति, डिजिटल डिस्प्ले वगैरह दिखाए जाएंगे।
नई संसद में दोनों सदनों के साथ-साथ सभी सांसदों के लिए आधुनिक सुविधाओं से लैस ऑफिस की व्यवस्था भी होगी। यहां सांसदों के लिए डिजिटल सुविधाएं उपलब्ध होंगी। नए सदन में सांसदों की बैठने की व्यवस्था मौजूदा व्यवस्था से हटकर ज्यादा खुली व आरामदेह होगी। एक टेबल पर दो सासंद बैठेंगे। सभी मंत्रियों के एक ही जगह पर बैठने की व्यवस्था की गई है, जिससे उनके आने जाने में लगने वाले वक्त की बचत हो सके।

भारत का राजकीय प्रतीक क्‍या है?
भारत सरकार की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार, भारत का राजचिह्न सारनाथ स्थित अशोक के सिंह स्तंभ की अनुकृति है, जो सारनाथ के संग्रहालय में सुरक्षित है। मूल स्तंभ में शीर्ष पर चार सिंह हैं, जो एक-दूसरे की ओर पीठ किए हुए हैं। इसके नीचे घंटे के आकार के पदम के ऊपर एक चित्र वल्लरी में एक हाथी, चौकड़ी भरता हुआ एक घोड़ा, एक सांड तथा एक सिंह की उभरी हुई मूर्तियां हैं। इसके बीच-बीच में चक्र बने हुए हैं। एक ही पत्थर को काट कर बनाए गए इस सिंह स्तंभ के ऊपर ‘धर्मचक्र’ रखा हुआ है।

भारत सरकार ने यह चिन्ह 26 जनवरी, 1950 को अपनाया। इसमें केवल तीन सिंह दिखाई पड़ते हैं, चौथा दिखाई नही देता। पट्टी के मध्य में उभरी हुई नक्काशी में चक्र है, जिसके दाईं ओर एक सांड और बाईं ओर एक घोड़ा है। दाएं तथा बाएं छोरों पर अन्य चक्रों के किनारे हैं। आधार का पदम छोड़ दिया गया है। फलक के नीचे मुण्डकोपनिषद का सूत्र ‘सत्यमेव जयते’ देवनागरी लिपि में अंकित है, जिसका अर्थ है- ‘सत्य की ही विजय होती है’।’

(साभा नवभारत टाइम्स)

Previous articleकेदारनाथ में स्वचालित मौसम केंद्र स्थापित
Next articleबलदेव सिंह: बंटवारा न चाहने वाला सिख जो पहला रक्षा मंत्री बना
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

18 + four =