बिहार का ऐसा मंदिर, जहाँ पढ़कर छात्र लिख रहे कामयाबी की कहानी

0
89

सासाराम । आमतौर पर धार्मिक स्थलों पर श्रद्धालु अपने आराध्य की पूजा और उनकी आराधना के लिए पहुँचते हैं, लेकिन बिहार का एक मंदिर ऐसा भी है, जहां लोग शिक्षा ग्रहण करने के लिए पहुँचते हैं। बिहार के रोहतास जिला मुख्यालय सासाराम में महावीर मंदिर है, जहाँ आस-पास के इलाकों और गांवों के छात्रों के समूह में पढ़ाई करने पहुंचते हैं। यहां आने वाले छात्र रेलवे, बैंकिंग सेवाओं, कर्मचारी चयन आयोग और अन्य सरकारी भर्ती परीक्षाओं की तैयारी करने आते हैं। यहाँ पहुँचने वालों छात्रों की पृष्ठभूमि आर्थिक रूप से कमजोर परिवार की रहती है।
महावीर मंदिर में ऐसे शुरू हुई छात्रों की क्लास
इस कोचिंग की सबसे बड़ी विशेषता है यह है कि यहां कोई शिक्षक नहीं है, सभी छात्र हैं और ये छात्र नियमित कक्षा, प्रश्नोत्तरी और मॉक टेस्ट में हिस्सा लेते हैं। बताया जाता है कि इसकी शुरूआत करीब 16 साल पहले साल 2006 में तब हुई जब आर्थिक रूप से कमजोर परिवार से आने वाले दो युवा छोटेलाल सिंह और राजेश पासवान अपनी पढ़ाई करने के लिए सासाराम पहुंचे। ये दोनों युवाओं ने यहां के कोचिंग संस्थानों में नामांकन कराने के लिए काफी प्रयास किया, लेकिन आर्थिक तंगी के इन महंगे कोचिंग संस्थानों में ये अपना नामांकन नहीं करा सके।
‘महावीर क्विज एंड टेस्ट सेंटर’ में अभी जुड़े है 700 छात्र
छोटेलाल सिंह बताते हैं कि इसके बाद हम दोनों सरकारी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने के लिए सासाराम के महावीर मंदिर में पहुंचने लगे और दिन भर वहीं रहकर पढ़ाई करते। फिलहाल रेल चक्का कारखाना, बेला, छपरा में कार्यरत छोटेलाल बताते हैं कि इसके बाद और कई छात्र हम लोगों से जुड़ते चले गए और फिर छात्रों का बड़ा समूह बनता चला गया। उन्होंने कहा कि फिलहाल ‘महावीर क्विज एंड टेस्ट सेंटर’ में 700 छात्र जुड़े हुए हैं, जो रोजाना कक्षाओं में हिस्सा ले रहे हैं। उन्होंने बताया कि राजेश पासवान वर्तमान में कोलकाता के पास भारतीय रेलवे में ही कार्यरत हैं।
छोटेलाल सिंह कहते हैं कि यहां पढ़ने वाले करीब 600 से 700 छात्र प्रतियोगी परीक्षा उत्तीर्ण कर सरकारी क्षेत्रों में कार्यरत हैं। वे हालांकि कहते हैं कि कोचिंग चलाने के लिए संसाधन जुटाना बड़ी चुनौती है, लेकिन यहां से निकलने वाले प्रत्येक छात्र कुछ न कुछ स्वेच्छा से दान करते रहते हैं, जिससे यह संस्थान चल रहा है। सिंह कहते हैं कि उन्होंने इस संस्थान में अधिक समय दे सके, इस कारण से लोको पायलट की नौकरी छोड़ दी और अब रेल चक्का कारखाने में काम कर रहे हैं। यहां शिक्षकों को काम पर नहीं रखा जाता है। प्रश्नोत्तरी और मॉक टेस्ट में प्रदर्शन के आधार पर, छात्रों को साथी छात्रों को पढ़ाने के लिए चुना जाता है। आंतरिक परीक्षा में टॉप करने वालों को ही एक मानदेय दिया जाता है, जिससे वे अपने पढ़ाई का खर्च निकाल सके।
यहां आने वाले कई छात्र कोचिंग का खर्च उठाने की स्थिति में नहीं
छोटेलाल सिंह ने आगे बताया कि कई छात्र यहां ऐसे भी हैं जो अपनी पढ़ाई पर आने वाला खर्च भी वहन नहीं कर सकते। भुवनेश्वर से इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर यहां आकर बिहार लोक सेवा आयोग की तैयारी कर रहे अविनेश कुमार सिंह कहते हैं कि यह स्थान ज्ञान साझा करने का मंच बन गया है। इससे अच्छा ग्रुप डिस्क्शन कहीं और नहीं हो सकता है। यहां छात्र एक-दूसरे से सीखते हैं और अपनी कमियों पर काम करते हैं। हम एक-दूसरे के शिक्षक होते हैं।
पहले बिजली के चलते रात में होती थी पढ़ाई समस्या, फिर ऐसे हुई दूर
दारोगा सहित रेलवे की तैयारी कर रहे रीतेश कुमार बताते हैं कि यहां क्लास प्रतिदिन छह बजे से शुरू होती है और रात 9 बजे तक चलती है। बीच में कुछ समय का अंतराल दिया जाता है। उन्होंने बताया, छात्र बिना किसी फीस के लिखित और मौखिक परीक्षा में हिस्सा लेने के लिए आते हैं। करंट अफेयर्स पर प्रश्नों के अलावा, गणित, रिजनिंग और अन्य विषयों की आवश्यकताओं के अनुसार बताया जाता है। इधर, राजकमल बताते हैं कि रात में बिजली के कारण बीच में परेशानी हो रही थी, रात में बिजली आपूर्ति बंद हो जाने से पढ़ाई बाधित हो जाती थी, लेकिन एक पड़ोसी ने अपने घर से इंवर्टर की सुविधा यहां दे दी है, जिससे बिजली की समस्या दूर हो गई।

(साभार – नवभारत टाइम्स)

Previous articleपूर्व नौसैनिक बना शौकिया वैज्ञानिक, खोजा बृहस्पति जैसा ग्रह
Next articleलक्ष्य सेन ने विश्व विजेता लोह कीन यू को हराकर जीता इंडिया ओपन का खिताब
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

11 − 5 =