भवानीपुर कॉलेज में पहली बार इंटरकॉलेज बॉक्सिंग प्रतियोगिता नॉकआउट

0
41

 कोलकाता के 14 प्रसिद्ध कॉलेजों के प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया
कोलकाता । खेल में दुनिया को बदलने की ताकत है। इसमें प्रेरणा देने की शक्ति है, इसमें लोगों को उस तरह से एकजुट करने की शक्ति है जैसा और कोई नहीं करता। यह युवाओं से उसी भाषा में बात करता है जिसे वे समझते हैं।”
खेल हमेशा मनोरंजन और मस्ती का एक रूप रहा है। खेल में सभी सामाजिक या धार्मिक पृष्ठभूमि के लोग एकजुट होकर खेलते हैं। खेल हमेशा अनुशासित तरीके से खेले जाने के लिए होते हैं। बॉक्सिंग एक ऐसा खेल है जो महान वीरता, शक्ति, अनुशासन, तकनीक और जाहिर तौर पर खेल भावना को प्रदर्शित करता है। भवानीपुर एजुकेशन सोसाइटी कॉलेज ने प्रथम बार एक इंटर कॉलेज नॉकआउट टूर्नामेंट का आयोजन किया, जिसमें 14 प्रसिद्ध कॉलेजों ने भाग लिया था। कार्यक्रम में आशुतोष झा उनके विशिष्ट अतिथि के रूप में, जो वर्तमान में भवानीपुर एजुकेशन सोसाइटी कॉलेज में छात्र हैं। वह खेल के इस क्षेत्र में माहिर हैं और इस आयोजन की सफलता में आशुतोष झा की प्रमुख भूमिका रही।
कार्यक्रम की शुरुआत कॉलेज के छात्रों द्वारा चेसबॉक्सिंग के लाइव प्रदर्शन के साथ हुई, जिसमें बॉक्सिंग के साथ शतरंज के इस रचनात्मक मिश्रण के साथ दर्शकों को आकर्षित करने के लिए किया गया। प्रति मैच कुल तीन राउंड थे, जिसमें प्रत्येक राउंड में 2 मिनट का समय था। इसके बाद आधिकारिक मैच शुरु हुए, जिसने अपनी तीव्रता से माहौल को गर्म कर दिया। विभिन्न कॉलेजों के उत्साही प्रतिभागियों ने बॉक्सिंग रिंग पर अपना कौशल और समर्पण दिखाया, जिस पर भीड़ ने उत्साह से प्रतिक्रिया दी। पहले दिन शुरुआती मैच देखे गए और अगले दिन फाइनल के लिए योग्य क्वालीफायर आगे बढ़े।
इस आयोजन के लिए और साथ ही उनकी बहुमूल्य उपस्थिति के लिए कॉलेज के डीन प्रो. दिलीप शाह का विशेष धन्यवाद। उनके बिना यह आयोजन इतना सफल नहीं हो सकता था। साथ ही, प्रतिभागियों का लगातार मार्गदर्शन करने और उन्हें प्रेरित करने के लिए कार्यक्रम के आयोजक आशुतोष झा का विशेष धन्यवाद किया गया।
विभिन्न श्रेणियों के विजेता थे:
-65 किग्रा हैं- मिजानुल रहमान खान, एजेसी कॉलेज (स्वर्ण), आकाश धनुक, खिदिरपुर कॉलेज (रजत), ऋतिक प्रसाद, बीईएससी (कांस्य)।
-55 किग्रा- बिपुल पांडे, एजेसी कॉलेज (स्वर्ण), अवंतास अरोड़ा, बीईएससी (रजत)
-60 किग्रा- मरियम आयशा, चित्तरंजन कॉलेज (स्वर्ण), जरीन खान, एसएससी (रजत)
-65 किग्रा- खुशी लकड़ा, बीईएससी (स्वर्ण), संजना गुप्ता, बीईएससी (रजत)
-75 किग्रा- आदित्य शॉ, एजेसी कॉलेज (स्वर्ण) , सुमित सरकार, एपीसी कॉलेज (रजत), शशांक शेखर तिवारी, बीईएससी (कांस्य)
-70 किग्रा- सिद्धार्थ तस्नीवाल, बीईएससी (स्वर्ण), ज्योति रंजन स्वैन, बीईएससी (रजत), मोहम्मद शोएब कुरैशी, उमेश चंद्र कॉलेज (कांस्य)
-60 किग्रा- किंग्शुक साहा, न्यू अलीपुर कॉलेज (स्वर्ण), हरि गुरुंग, खड़गपुर कॉलेज (रजत), निरंजन बर्मन, विवेकानंद कॉलेज, सिलीगुड़ी (कांस्य)
-55 किग्रा- प्रबी कर्मकार, चारुचंद्र कॉलेज (स्वर्ण), स्वाति गुप्ता, एमसीकेबी (रजत), माधवी पाहन, बर्दवान कॉलेज (कांस्य)
65 किग्रा और उससे अधिक- प्रियंका सिंह, बीईएससी (स्वर्ण), श्वेता शर्मा, सुरेंद्रनाथ (रजत)।
किंग ऑफ द रिंग- मिजानुल रहमान खान (एजेसी)
रिंग की रानी- पूर्वी कर्मकार (चारुचंद्र)
उन्हें पदकों से सम्मानित किया गया और इसके बाद कार्यक्रम का समापन हुआ। यह आयोजन उत्साह और मनोरंजन का रोलरकोस्टर साबित हुआ। कार्यक्रम की जानकारी दी डॉ वसुंधरा मिश्र ने ।

संवाददाता – रूपम कुंडू और फोटोग्राफर- उमंग लच्छीराम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × 5 =