भवानीपुर कॉलेज में मॉक संसद एवं इन एक्ट में विद्यार्थियों की भागीदारी

0
185

कोलकाता : छात्रों को वरिष्ठ विद्यार्थियों द्वारा आयोजित तीन घंटे का मॉक संसद सत्र बिताने और विशेषज्ञों के साथ-साथ नए लोगों के लिए एओएन प्लेटफॉर्म पर सुनहरा अवसर मिला। प्रतिनिधियों ने संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्राजील, इटली, जर्मनी, भारत, फ्रांस, जापान, चीन, यूके, यूक्रेन और केएसए (सऊदी अरब साम्राज्य) सहित नकली संसद में विद्यार्थियों ने अपने-अपने देशों का प्रतिनिधित्व किया। सत्र की शुरुआत छात्रों की सभा से हुई, जिन्हें वरिष्ठ म्यूनर्स द्वारा संबोधित किया जा रहा था। कॉलेज के डीन
प्रो. दिलीप शाह सभा में शामिल हुए और एमयूएन के आयोजन के बारे में महत्वपूर्ण विचार रखे। विभिन्न औपचारिकताओं का पालन किया गया जैसे कि एक एमयूएन चल रहा हो। सौमिली भट्टाचार्य ने इस कार्यक्रम की रिपोर्ट भी प्रस्तुत की।
अंत में, प्रतिनिधियों ने एक दूसरे को बधाई दी और एमयूएन समाप्त हो गया। एक अन्य कार्यक्रम में इन एक्ट के विद्यार्थियों ने अपनी-अपनी अभिनय प्रतिभा का प्रदर्शन किया। एक कमरे की भावनाओं को नियंत्रित करना, दर्शकों को रुलाना, हंसाना, अपनी बनाई किसी चीज से प्यार हो जाना किसी कला से कम नहीं है।
पटकथा लेखन, अभिनय, नृत्य, गायन सब उसी का हिस्सा हैं। 4 और 6 दिसंबर 2021 को, भवानीपुर एजुकेशन सोसाइटी कॉलेज के इन एक्ट कलेक्टिव ने अपने ऑडिशन की मेजबानी की। कॉलेज के सामूहिक प्रतिनिधियों के साथ प्रेरणा मुखर्जी, सरफराज हुसैन खान और वरिष्ठ सदस्य प्रत्यूष प्रकाश, साहिल लखमनी और हुजैफा बिन मिस्बाह द्वारा निर्णायक की भूमिका निभाने का कार्य किया। इस अवसर पर प्रो. दिलीप शाह और कुछ संकाय सदस्य भी सोलो एक्टिव की प्रक्रिया के हिस्सा बने और छात्रों को उनका समर्थन करके और अधिक उत्साहित किया।
पहले दिन में 50 प्रतिभागियों के लिए स्लॉट था, जिन्होंने अपने अभिनय का प्रदर्शन किया और उसके बाद एक खेल की भी योजना बनाई गई जहाँ प्रतिभागियों को जजों द्वारा प्रस्तुत एक सहज भूमिका निभाने के लिए तैयार किया गया था।दूसरे दिन भी 50 छात्रों के स्लॉट के साथ समान पैटर्न का पालन किया। दो राउंड के इस एक्टिंग कार्यक्रम में पहले एक एकल अभिनय किया गया जिसमें प्रत्येक प्रतिभागी ने मोनोलॉग के साथ 4-5 मिनट का एकल अभिनय तैयार किया, उसके बाद राउंड 2 जो इम्प्रोव एक्टिंग (अनियोजित) था। इस कार्यक्रम की जानकारी दी डॉ वसुंधरा मिश्र ने ।

Previous articleसुख दु:ख का साथ
Next articleभारत नहीं भूलेगा शौर्यनायक सीडीएस जनरल रावत का योगदान
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × four =