माँ की मौत के बाद पिता ने छोड़ा, नानी के यहां रहकर पढ़ी श्रीजा बनी राज्य टॉपर

0
34

पटना । प्रतिभा कभी सुविधाओं की मोहताज नहीं होती है। इस कहावत को एक बार फिर सही साबित किया है, बिहार की बेटी श्रीजा ने। वैसे तो बिहार हमेशा अपनी असाधारण सफलता की कहानियों के लिए जाना जाता है। गत शुक्रवार, 22 जुलाई को सीबीएसई परिणाम 2022 की घोषणा के साथ, बिहार के इतिहास के पन्नों में एक और कहानी जुड़ गई है।

10वीं के परिणाम में 99.4 प्रतिशत अंक किए हासिल

कक्षा 10वीं की छात्रा श्रीजा, जिसे पाच साल की उम्र में मां की मृत्यु के बाद पिता ने छोड़ दिया और उसे छोटी बहन के साथ ननिहाल जाने के लिए मजबूर होना पड़ा था। आज वही श्रीजा, सीबीएसई कक्षा 10वीं के परिणाम में 99.4% अंक हासिल करने के बाद बिहार की स्टेट टॉपर बनकर इतिहास रच चुकी है। टॉपर बनने के बाद से ही श्रीजा सुर्खियों में है। भाजपा सांसद वरूण गांधी ने भी सोशल मीडिया पर श्रीजा को बधई देते हुए लिखा, त्याग और समर्पण की अद्भुत दास्तां! मां का साया हटने पर पिता ने जिस बेटी का साथ छोड़ दिया उसने नाना-नानी के घर परिश्रम की पराकाष्ठा कर इतिहास रच दिया। गांधी ने लिखा कि बिटिया का 10वीं में 99.4 फीसदी अंक लाना बताता है कि प्रतिभा अवसरों की मोहताज नहीं है। उन्होंने लिखा कि मैं आपके किसी भी काम आ सकूं, मेरा सौभाग्य होगा।

पिता ने कर ली थी दूसरी शादी कर ली

जब से उसकी मां की मृत्यु हुई, उसके नाना-नानी और मामा ने उसकी देखभाल की। जबकि पिता ने दूसरी शादी कर ली और कभी उनसे संपर्क करने की भी कोशिश नहीं की। अब इस उपलब्धि के साथ, बिहार स्टेट टॉपर की पूरे भारत में सराहना हो रही है। उसकी सफलता इतनी बड़ी है कि पिता अपनी बेटियों से बात करने के लिए मजबूर और लालायित हो रहा है।
आईआईटी, मद्रास से पढ़ने की चाहत

मीडिया को दिए एक इंटरव्यू में श्रीजा की नानी ने कहा, आज हम बहुत खुश हैं, क्योंकि मेरी पोती मशहूर हो गई है। अपना नाम रोशन कर लिया है। अब जब श्रीजा के पिता ने यह खबर सुनी होगी तो उसको लगा होगा कि उसने बच्चों को छोड़कर कितना गलत किया था। श्रीजा होनहार है और आगे चलकर आईआईटी, मद्रास से पढ़ाई करना चाहती है। हम उसकी यह इच्छा भी पूरी करवाएंगे।
Previous articleसीबीएसई की 12वीं के नतीजे 98.83 प्रतिशत, तान्या रही अव्वल
Next articleसीबीएसई की बोर्ड परीक्षाओं में बीएचएस के शानदार नतीजे
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × 3 =