सब्र

0
121

श्वेता गुप्ता

सब्र करो, सब कहते मुझसे,
पर कितना सब्र करू मैं?!

अधूरे रिश्ते,अधूरे वादे,
पर कितना डटी रहूं मैं?!
आंख मूंदे, सपने को सीते,
और कब तक हठ करू मैं?!
विरह की अग्नि में खुद को जलाकर,
और कब तक मरहम करू मैं?!

सब्र करो, सब कहते मुझसे,
पर कितना सब्र करू मैं?!

वक्त गुजरे, कोई उसको रोको,
और कब तक, परखती रहू मैं?!
हर कोई तेजी से बढ़ता,
और कब तक, विलंब करू मैं?!

सब्र करो, सब कहते मुझसे,
पर कितना सब्र करूं मैं?!

सब्र का बांध, अब टूटा जाए,
रिश्ते नाते, सब छूटा जाए,
किस्मत को आजमा ले तू,
सब्र छोड़, अपना ले तू ।

किस्मत का रोना छोड़, उठा हथियार, अब लिखता चल,
डटे रहे तू, मरहम लगाकर, विलंब न कर,
अब उठजा तू।
जीत निश्चित है, अब डर मत तू ।

सब्र करो ,सब कहते मुझसे,
अब और ,सब्र ना करे तू ।
अब और सब्र ना करे तू ।।

 

Previous article‘पगड़ी संभाल जट्टा’ आंदोलन के जनक क्रांतिकारी सरदार अजीत सिंह
Next articleकोरोनाकाल में करें ऑनलाइन व्यवसाय
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

2 × 2 =