‘हार्वर्ड कॉलेज विजन’ में बीएचएस का देवांशु सम्मानित

0
313

इस ग्लोबल हेल्थ एंड लीडरशिप कॉन्फ्रेंस में सारी दुनिया से भाग लेते हैं विद्यार्थी

कोलकाता :  महानगर के बिड़ला हाई स्कूल के विद्यार्थी देवांशु चौधरी ने ग्लोबल हेल्थ सोसाइटी द्वारा ग्लोबल हेल्थ एंड लीडरशिप कॉन्फ्रेंस’ ‘हार्वर्ड कॉलेज विजन में भाग लिया और उसे सम्मानित किया। आइए देवांशु से जानते हैं उसका अनुभव –

‘हार्वर्ड कॉलेज विजन’ ग्लोबल हेल्थ सोसाइटी द्वारा ग्लोबल हेल्थ एंड लीडरशिप कॉन्फ्रेंस’ द्वारा आयोजित किया जाता है।  यह हार्वर्ड कॉलेज में आधिकारिक तौर पर मान्यता प्राप्त संगठन है और हर यह हार्वर्ड विश्वविद्यालय में आयोजित होता है। हाई स्कूल के विद्यार्थियों को वैश्विक स्वास्थ्य के प्रति सजग बनाने और जागरुक बनाने के उद्देश्य से साथ लाया जाता है। मूल वक्ता के भाषणों की श्रृंखला. परिचर्चा और कार्यशालाओं के जरिए विद्यार्थी वैश्विक स्वास्थ्य को लेकर पेशेवरों तथा अकादमिक जगत के लोगों से काफी कुछ सीखते हैं। वे कम्यूनिटी प्रोजेक्ट पिच कम्पटिशन और केस स्टडी कम्पटिशन से काफी कुछ सीखते हैं। कोरोना महामारी के कारण यह आयोजन इस बार जूम ऑनलाइन माध्यम से गत 22 और 23 मई को आयोजित हुआ। सम्मेलन 22 और 23 मई को आयोजित किया गया था। एक अत्यंत विचारोत्तेजक सत्र, जिसमें सार्वजनिक स्वास्थ्य के कई पहलुओं पर हार्वर्ड के प्रोफेसरों के व्याख्यान और वैश्विक स्वास्थ्य के लिए अपनी परियोजनाओं पर हार्वर्ड के स्नातक छात्रों द्वारा आयोजित कार्यशालाएं भी शामिल थीं। पुरस्कार समारोह से पहले सभी विजेताओं को अंतिम बार अपनी पिच प्रस्तुत करने के लिए कहा गया था, इसके बाद दर्शकों द्वारा एक प्रश्नोत्तर सत्र आयोजित किया गया था।
वैश्विक स्वास्थ्य और नेतृत्व सम्मेलन का मिशन लोगों की भलाई और गरिमा को बढ़ावा देने वाले प्रमाणित, प्रभावी, किफायती और टिकाऊ आयोजनों के जरिए युवाओं को सजग करना है। युवाओं को नागरिक विचारधारा वाले नेताओं के रूप में विकसित करने के लिए प्रेरित करना है। व्यक्तिगत परियोजनाओं में स्थानीय समुदायों को प्रभावित करने वाले वास्तविक जीवन के मुद्दों के बारे में शोध करना और गंभीर रूप से सोचना शामिल है।
मेरा प्रस्ताव “समाज के आर्थिक रूप से अक्षम वर्गों के लिए मासिक धर्म स्वास्थ्य जागरूकता पैदा करना और सैनिटरी पैड बैंकों की स्थापना” पर आधारित था। हमारे देश में मासिक धर्म स्वास्थ्य स्वच्छता प्रबंधन की भयानक स्थिति ने मुझे इस तरह के मंच पर इसके बारे में विचार रखने को प्रेरित किया। मेरी पिच 5 मिनट लंबी वीडियो थी और इसके साथ ही मैंने अपने प्रस्ताव से संबंधित तकनीकी को समझाते हुए एक लिखित “अनुदान प्रस्ताव” प्रस्तुत किया था। मेरे दृष्टिकोण में मूल रूप से तीन महत्वपूर्ण कदम शामिल थे- जागरूकता पैदा करना, बैंकों की स्थापना करना और दक्षता में सुधार के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग करना। इसके लिए मुझे विजेताओं में से एक के रूप में चुना गया था, अंत में तीसरा स्थान हासिल किया।

Previous articleरुपहली दुनिया में अपने काम से अपनी छाप छोड़ रही है अस्मिता
Next articleडीआरडीओ ने बनायी किफायती और त्वरित कोरोना एंटीबॉडी टेस्टिंग किट
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twelve − 7 =