हेरिटेज के पूर्व विद्यार्थी को मिला गाँधीयन यंग टेक्नोलॉजिकल इनोवेशन एप्रिशियेशन

0
46

कोलकाता । एचआईटीके के पूर्व विद्यार्थी को आईआईटी गुवाहाटी से स्वीकृति मिली है। एचआईटीके के केमिकल इंजीनियरिंग विभाग के पूर्व विद्यार्थी डॉ. सुरजेंदु माइती आईआईटी गुवाहाटी से उनके रिसर्च प्रोजेक्ट के लिए गाँधीयन यंग टेक्नोलॉजिकल इनोवेशन एप्रिशिएशन 2021 मिला है। यह शोध आईआईटी गुवाहाटी के शुभ्रदीप घोष एवं डॉ. तमन्ना भुइयां के साथ किया गया है। इस शोध परियोजना आईआईटी गुवाहाटी के सेंटर ऑफ नैनोट्रेक्नोलॉजी के दीपंकर बंद्योपाध्याय एवं श्री शंकरदेव नेत्रालय ऑकुलर पैथोलॉजी, यूवेटिस एवं न्यूरोऑप्थोमोलॉजी सर्विसेज विभाग के डॉ. दीपंकर दास के नेतृत्व में किया गया था। सुरजेंदु की शोध परियोजना मानव आंसुओं में β-2-माइक्रोग्लोब्युलिन (बी2एम) के परिमाणीकरण पर केंद्रित है, जो मधुमेह मेलिटस से पीड़ित रोगियों के लिए खतरनाक नेत्र रोग डायबिटिक रेटिनोपैथी (डीआर) की शुरुआत और वृद्धि का पता लगाने में मदद कर सकती है। एचआईटीके के प्रिंसिपल प्रो. बासव चौधरी एवं केमिकल इंजीनियरिंग विभागाध्यक्ष प्रो. सुलग्ना चटर्जी ने सुरजेंदु को शुभकामनाएं दीं।

Previous articleआईआईटी बंगलुरू के विद्यार्थी ने जीती पहली प्राक्सिस डेटा साइंस चैम्पियनशिप
Next articleएचआईटीके की छात्रा को मिली माइक्रोसॉफ्ट की इंटर्नशिप
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × three =