12 सप्ताह के बाद लें कोविड -19 वैक्सीन की दूसरी खुराक : डॉ. रणदीप गुलेरिया

0
241

एमसीसीआई ने कोविड -ौ19 को लेकर आयोजित किया वेबिनार

गर्भवती महिलाओं के लिए सुरक्षित है कोविड -19 वैक्सीन

कोलकाता : मर्चेन्ट चेम्बर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (एमसीसीआई) ने कोविड -19 को लेकर जूम वेबिनार आयोजित किया। इस वेबिनार में एम्स, नयी दिल्ली के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कोविड -19 से बचाव.उपचार और कोविड के पश्चात होने वाले प्रभावों पर अपने विचार रखे। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस बेहद खतरनाक है जि,के कारण सर्दी से लेकर गम्भीर बीमारी तक हो सकती है। यह नया टॉपिकल वायरस चीन के वुहान में मिला था औऱ मनुष्यों में इसके विरुद्ध लड़ने के लिए एन्टीबॉडिज नहीं होने के कारण उनसे संक्रमण फैलता है। बीमारी पर चर्चा करते हुए डॉ. गुलेरिया ने बताया कि भारत में 27.5 मिलियन कोविड -19 के मामले हैं। दूसरी लहर का कारण सावधानी को हल्के में लेने औऱ भीड़ के कारण हुआ, मास्क पहनकर इससे बचना सम्भव है। इसके अतिरिक्त हाथ साफ रखना, शारीरिक दूरी रखना, वैक्सीन और सीमित लॉकडाउन कोविड -19 से लड़ने में मदद कर सकते हैं। वैक्सीन बेहद प्रभावी है, पूरी दुनिया में 1 बिलियन लोग वैक्सीन ले चुके हैं। अब तक देश की 12 प्रतिशत जनता वैक्सीन की एक डोज ले चुकी है और 3.1 प्रतिशत लोग वैक्सीन प्रक्रिया को पूरा कर चुके हैं। डॉ. गुलेरिया के मुताबिक 80 प्रतिशत लोगों को कोविड के हल्के लक्षण थे और वे घर में ही उपचार से ठीक हो गये. 15 प्रतिशत लोगों को थोड़ा अधिक संक्रमण था तो उनको अस्पताल ले जाना पड़ा जबकि 5 प्रतिशत मामलों में मरीज को गम्भीर हालत में आईसीयू ले जाना पड़ा। स्वस्थ होने के बाद थकान, सीने में परेशानी, कफ, तनाव औऱ मानसिक परेशानी हुई। कोविड के बाद की स्थिति को लेकर किये गये एक अध्यनन में पता चला है कि 60 दिनों तक स्वस्थ होने वाले मरीजों में कम से कम एक लक्षण दिखे जबकि एक अन्य अध्ययन के अनुसार 43 दिन के बाद 32 प्रतिशत लोगों में ऐसे कम से कम एक लक्षण दिखे।
एक सवाल के जवाब में डॉ. गुलेरिया ने कहा कि 12 सप्ताह के बाद वैक्सीन की दूसरी खुराक लेना अधिक उपयोगी होगा। कोविड -19 की दूसरी लहर अब कमजोर पड़ रही है। यह वायरस लहर के रूप में आएगा।। मधुमेह पर अनियन्त्रण के कारण ब्लैक फंगस की समस्या बढ़ रही है। कोविड वैक्सीन के साइड इफेक्ट कुछ समय के लिए ही रहते हैं औऱ यह गर्भवती महिलाओं के लिए सुरक्षित हैं। स्वागत भाषण में एमसीसीआई के अध्यक्ष आकाश शाह ने कहा कि कोविड -19 के कारण देश के सामने एक चुनौती खड़ी हो गयी है। इसके साथ ही ब्लैक फंगस, व्हाइट फंगस औऱ यलो फंगस को लेकर भी उन्होंने चिन्ता जाहिर की। एमसीसीआई के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट ऋषभ कोठारी ने धन्यवाद दिया।

Previous articleइफको लाया विश्व का पहला नैनो यूरिया
Next articleवर्धा विश्वविद्यालय कोलकाता केंद्र कार्यालय 15 जून तक बंद
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

18 − ten =