अखबारों पर बना है भरोसा, सबसे ज्यादा 82 प्रतिशत लोगों का प्रिंट पर भरोसा

0
7

डिजिटल विज्ञापन पसंद नहीं करते लोग
लंदन । अखबार में छपे विज्ञापनों की विश्वसनीयता सर्वाधिक होती है। हार्वर्ड बिजनेस रिव्यू की एक हालिया रिपोर्ट के अनुसार- ग्राहक सोशल मीडिया एडवर्टाइजिंग की तुलना में आज भी अखबार, टीवी, रेडियो पर सबसे ज्यादा भरोसा करते हैं। इन सभी माध्यमों में भी अखबार सबसे आगे है। जहां सबसे ज्यादा 82% लोगों ने प्रिंट पर भरोसा जताया है।
रिपोर्ट के मुताबिक, यह अध्ययन इसलिए भी चौंकाता है, क्योंकि जहां पिछला दशक डिजिटल मार्केटिंग टेक्नोलॉजी के नाम रहा। वहीं अब इंटरनेट से अपनी सौ फीसदी बिक्री करने वाली कंपनियां भी परंपरागत विज्ञापनों (अखबार, टीवी-रेडियो) पर अपना खर्च अगले 12 माह में 11.7% बढ़ाने वाली हैं। विज्ञापनों के परंपरागत माध्यमों में इन वजहों से विकास होगा।

डिजिटल विज्ञापन लोगों को पसंद नहीं आते
हब स्पॉट का सर्वे कहता है 57% लोग वीडियो से पहले विज्ञापन को नापसंद करते हैं। 43% तो इसे देखते भी नहीं हैं। जब वे कोई आर्टिकल पढ़ते हैं या वेबसाइट पर जाते हैं तो डिजिटल विज्ञापन बाधा खड़ी करता है। इससे ब्रांड के प्रति नकारात्मकता खड़ी हो जाती है।
थर्ड पार्टी कुकीज का अंत निकट
थर्ड पार्टी कुकीज… जिससे यूजर के लिए उसकी रुचि, सर्च के आधार पर विज्ञापन दिखते हैं। थर्ड पार्टी कुकीज का अंत अब निकट है। गूगल 2023 के अंत तक क्रोम से इन्हें हटा देगा। एपल भी ऐसा कर रहा है। सीएमओ सर्वे कहता है कि यही वजह है कि 19.8% कंपनियों ने अब परंपरागत विज्ञापनों में ज्यादा निवेश किया है।
ब्रांड की विश्वसनीयता में अखबार सबसे आगे
मार्केटिंग शेरपा के सर्वे के मुताबिक- आज भी विज्ञापनों के मामले में अखबारों पर सर्वाधिक लोगों का भरोसा है। एबिक्यूटी की रिसर्च के अनुसार- अखबार, टीवी और रेडियो डिजिटल चैनल्स की तुलना में रीच, एंगेजमेंट और अंटेशन के स्तर पर बेहतर प्रदर्शन करते हैं।
जहां ऑनलाइन विज्ञापनों की दर बढ़ी है, परंपरागत मीडिया में घटी है। मार्केटिंग शेरपा की रिपोर्ट बताती है- आधे से ज्यादा कंज्यूमर अखबार में छपने वाले विज्ञापनों को रुचि के आधार पर देखते हैं। वहीं डिजिटल विज्ञापनों से यूजर परेशान होता है।

Previous article1500 करोड़ से ज्यादा में बिकी ‘मर्लिन मुनरो’ की शानदार पेंटिंग
Next article15 साल की आर्याही ने बच्चों के लिए बनाया शुद्ध ऑर्गेनिक परफ्यूम 
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

5 × four =