अर्चना ने मनाया हिन्दी दिवस

0
25

कोलकाता । हिंदी दिवस के अवसर पर अर्चना संस्था के सदस्यों ने हिंदी भाषा और उसके साथ अपनी मातृभाषा प्रेम और देशप्रेम के प्रति अपनी जिम्मेदारी को स्वरचित रचनाओं , गीत और गजल के द्वारा अपनी भावनाओं को व्यक्त किया। उषा श्राफ ने मैने हिंदी को नहीं चुना, हिंदी ने मुझे चुना है।
राजस्थानी और हिंदी में मृदुला कोठारी ने लो फेरू आग्योहिंदी पखवारोअंग्रेजी की गोदी में बैठो जाने गांव रो गवारू छोरो और हिंदी हमारी साख है है,टहनियां, सांस प्राण धमनिया है और तुलसी पौधे पर एक गीत, प्रसन्न चोपड़ा ने सीने से लगाकर पाला, अपने से दूर किया थाजैसे कड़वा घूंट, मैंने कोई पिया था, हिम्मत चोरडिया प्रज्ञा ने कुण्डलिया-हिन्दी हिन्दुस्तान की, हमको है अभिमान।
जन-जन की भाषा बने, मिले इसे पहचान।।कुछ दोहे- सीधी सरल सुहावनी, माता हिन्दी बोल।गहन ज्ञान इसमें छिपा, आँखें अपनी खोल, मीना दूगड़ ने हिंद हिंदुस्तान भारत इंडिया,कहलाया जो सोने की चिड़िया
हर शब्द के पीछे छुपा राज गहरा,पग पग पर संस्कृति देती पहरा।, प्रसन्न चोपड़ा ने सीने से लगा के पाला ,अपने से दूर किया था। जैसे कड़वा घूंट, मैंने कोई पिया था। शीतल बयार सी आती ,तपन होती कुछ कम है। मन का दर्द समझती बेटी मानो जीवन है।संगीता चौधरी ने शीर्षक हिंदी और मैं कविता की प्रस्तुति दी। बड़े प्रेम से मेरे देश में हिंदी दिवस मनाया जाता है। सुशीला चनानी ने एक सूत्र में बांधे रखती हिन्दी जैसे अन्नपूर्णा सी माँ जोड़कर रखती परिवार लगा कर भाल पर बिन्दी,संस्कृत के गोमुख से निकली गंगा सी पावन हिन्दी, एक सूत्र मे बांधे रखती ऐसी है मन भावन हिन्दी, शिक्षक पर एक गीत -अंधियारी गलियों मे राह जो दिखाते हैं वो और नही कोई मेरे गुरुदेव ही हैं ,मेरे मन में दीप ज्ञान का जलाते हैं। इंदू चांडक ने प्यारी प्यारी मातृभाषा, हमारी है हिंदी, जन जन के होठों पर गूँजे, गर्व से हिंदी, कोई आसमां के पार से बुलाता है मुझे, हर पलअपने होने का आभास दे जाता है मुझे, डॉ वसुंधरा मिश्र ने हिंदी की रेल चली हिंदी की रेल चली इतराती इठलाती कई भाषाओं की विविध रचनाओं को हिंदी भाषा के प्रति समर्पित किया गया।

Previous articleहिन्दी दिवस पर विशेष : हिन्दी
Next articleभवानीपुर कॉलेज की वाणिज्य प्रयोगशाला में आठ दिवसीय व्यवहारिक पाठ्यक्रम संपन्न 
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × four =