आज तक छुआ नहीं मोबाइल, अंशु बनी टॉपर

0
112

मजदूरी करते हैं पिता

मेरठ :  यूपी बोर्ड के हाईस्कूल की परीक्षा में अंशु यादव सबसे आगे रही।   मेरठ जिल में टॉप करने वाली अंशु यादव के पिता मजदूरी करते हैं। जिले में टॉप कर पूरे परिवार का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया है।  अंशु यादव ने बताया कि उसके पिता अंगद यादव मजदूरी करते हैं और माता गीता देवी गृहणी हैं। दो बड़े भाई हैं। अंशु बताती है कि उसने कोई कोचिंग नहीं ली। उसके भाई ने पढ़ाया और अब आगे की पढ़ाई भी अपने भाई के साथ करेगी। वह उसे सिविल के लिए गाइड करेगा।
अंशु ने बताया कि उसके घर में किसी के पास टच फोन नहीं है। इसलिए ऑनलाइन शिक्षा से वह दूर है। सोशल साइट का अनुभव भी नहीं है। आनलाइन पढ़ाई में क्या हो रहा है। उसकी जानकरी भी नहीं है। कक्षा 11वीं की पढ़ाई भाई कराता है। कुछ पुरानी बुक्स हैं, तो कुछ नई बुक्स का इंतजाम कर लिया और इससे 11वीं की पढ़ाई जारी की हुई है। अंशु ने बताया कि उसने कभी पढ़ाई के घंटे नहीं गिने। जब पढ़ने बैठती थी तो बस पढ़ती रहती थी। कहीं कोई दिक्कत आई तो भाई रवि से पूछकर समस्या का हल कर लेती है।
आईएएस बनने का सपना और समाज में बदलाव का लक्ष्य
अंशु का सपना आईएएस बनने का है। आईएएस बनकर वह समाज में बदलाव करेगी। अंशु कहती है कि समाज में शुरुआत से ही बेटियों को आगे नहीं बढ़ने दिया जाता है। वह खुद आगे बढ़कर समाज को प्रेरित करेगी और अपनी मिसाल कायम करेगी, ताकि बेटियों को पढ़ाया जाए।
टापर अंशु यादव ने बताया कि पिता मजदूरी करते हैं और कोरोना काल में मजदूरी का काम भी बंद हो गया। ऐसे में तमाम परेशानियां आई, लेकिन स्थिति के अनुसार ही खुद को ढाल लिया। अब 10 से 15 दिन हुए हैं पापा का काम शुरू हो गया है। कोरोना काल की परिस्थितियों ने बहुत कुछ सिखाया। मुसीबतों में किस तरह से चलना चाहिए और कैसे काम करना चाहिए। यह सभी कुछ आ गया है।
स्कोर कार्ड
97 हिंदी, 94 इंग्लिश, 96 गणित, 86 साइंस, 91 सोशल साइंस, 92 कम्यूटर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

sixteen − nine =