आम नागरिक की कहानी ‘तफ्तीश’

0
49

समीक्षक – शिव जायसवाल

तफ्तीश की कहानी गुलशाद नाम के एक आदमी की कहानी है। उसे बम विस्फोट की घटना के लिए गिरफ्तार किया गया था, जिसमें वह शामिल नहीं था। उसे आग लगा दी जाती थी और पुलिस द्वारा अनावश्यक रूप से पूछताछ की जाती थी। कहानी में एक पत्रकार है जो एक कवर तैयार करने की कोशिश करता है अपने अखबार में गुलशाद के लिए कहानी क्योंकि गुलशाद को मौत की सजा की घोषणा की गई थी। एक दिन रेहान थाने में अपने एक पुलिस मित्र से मिलने गया। वहां उसे एटीएस टीम और स्थानीय पुलिस इंस्पेक्टर त्यागी ने फंसा लिया। उन्होंने उसे साबित करके गोली मारने की कोशिश की। झूठे आतंकवादी के रूप में। लेकिन वे उसे मारने में असमर्थ थे। आखिरकार रेहान को उसके पुलिस मित्र प्रशांत वर्मा के विरोध के बावजूद पुलिस हिरासत में ले लिया गया। अंत में कहानी का नैतिक है सट्टा मे जयते (इसका मतलब है कि सत्ता में रहने वाले लोग और प्रशासनिक में। सत्ता उनके हाथ में है, वे सब कुछ हैं। आम नागरिक के लिए कुछ भी काम नहीं करता है। हमारे देश में कोई “सत्यमेव जयते” नहीं है, सट्टा मेव जयते है।

 हिंदी नाटक : तफ्तीश
लेखक : राजेश कुमार
निर्देशक : मृत्युंजय भट्टाचार्य
संगीत निर्देशक : दिशारी चक्रवर्ती
संगीत चालक : अधीर गांगुली
प्रकाश सज्जा : जयंत मुखर्जी
मंच सज्जा : नील कौशिक
रूप सज्जा : स्वपन आड्डी
वीडियोग्राफी : अरविंद गिरी
पोस्टर डिजाइन : विश्वजीत विश्वास
कलाकार :
अमित आदित्य
गगनदीप कौर
शिव जायसवाल
सुरजीत प्रमाणिक
अर्घ्य रॉय
आकाश मल्लिक

संजीव रॉय
मृत्युंजय भट्टाचार्य
एवं
गंभीरा भट्टाचार्य
पर्दे पर : समर्पिता चक्रवर्ती
: ज्यालिया नफीसा

Previous articleलालची किसान और जादुई मटका
Next articleपेटीएम ने अक्टूबर और नवंबर में वितरित किये 6.8 मिलियन ऋण
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

5 × two =