इस तरह से खरीदिए सोना

0
19

अपने सांस्कृतिक और धार्मिक महत्व के अलावा, सोना भी निवेश का एक विकल्प है जो आर्थिक संकट के दौरान अच्छा प्रदर्शन करते हुए समय के साथ बेहतर रिटर्न देता है। पारंपरिक स्वर्ण, ईटीएफ और म्‍यूचुअल फंड और मिलेनियल्स के पसंदीदा डिजिटल गोल्ड और सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड से लेकर सोने में निवेश करने के लिए कई विकल्प मौजूद हैं। हालांकि निवेश की यह पूरी प्रक्रिया जोखिम लेने की क्षमता, जरूरत और निवेशकों के निवेश परिदृश्य पर निर्भर करती है कि वे अपने लिए उपयुक्त विकल्पों का चयन करें। आनंद राठी शेयर्स एंड स्टॉक ब्रोकर्स में कमोडिटी और करेंसी विभाग के डाइरेक्टर नवीन माथुर हमें बता रहे हैं गोल्ड के निवेश के विभिन्न रास्ते:—

पारम्परिक स्वर्ण
फिजिकल गोल्ड या भौतिक सोना, निवेश का सबसे पुराना तरीका है, जिसमें सोने के बार (छड़ें)/सिक्के और आभूषणों में निवेश शामिल है। बार/सिक्कों में निवेश करना आभूषणों की तुलना में हमेशा लाभदायक होता है क्योंकि आभूषणों के मामले में मेकिंग चार्ज अधिक होता है। हालांकि, पारम्परिक स्वर्ण में निवेश के दौरान चोरी और शुद्धता के मुद्दों का जोखिम बना रहता है, लेकिन यह एक ऐसी संपत्ति है जिसे पूरी तरह से निजी और गोपनीय रखा जा सकता है और आधी रात को इसका लिक्विडेशन यानी इससे लगे पैसे को निकाला जा सकता है।

गोल्ड ईटीएफ
गोल्ड ईटीएफ, एक एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड है जिसका उद्देश्य घरेलू भौतिक सोने की कीमतों को ट्रैक करना है। इसे आप इलेक्ट्रोनिक तरीके से खरीद सकते हैं और इसे आपके डीमैट खाते में रखा जाता है। वे पैसिव यानी निष्क्रिय निवेश साधन हैं, जो पारम्परिक स्वर्ण का प्रतिनिधित्व करते हैं और बहुत उच्च शुद्धता वाले फिजिकल गोल्ड से समर्थित होते हैं। गोल्ड ईटीएफ, सोना में किए जाने वाले आसान निवेश और स्टॉक निवेश के लचीलेपन को एक साथ जोड़ते हैं क्योंकि वे सूचीबद्ध हैं।

म्यूचुअल फंड
म्‍यूचुअल फंड कोई नया विचार नहीं है। गोल्ड म्‍यूचुअल फंड पेशेवर फंड प्रबंधन की पेशकश करते हैं और गोल्ड ईटीएफ की इकाइयों में निवेश करते हैं। गोल्ड ईटीएफ के विपरीत बिना डीमैट खाते के भी गोल्ड म्‍यूचुअल फंड में निवेश किया जा सकता है। 5 साल से कम के निवेश परिदृश्य वाले लघु और मध्यम अवधि के निवेशकों के लिए, गोल्ड ईटीएफ और गोल्ड म्‍यूचुअल फंड सबसे अच्छे विकल्प हैं, क्योंकि वार्षिक इसमें लागत 2% से कम रहती है और वे अत्यधिक तरल होते हैं और इन्हें आसानी से खरीदा और बेचा जा सकता है।

डिजिटल गोल्ड
डिजिटल गोल्ड गूगल पे, फोनपे, पेटीएम आदि के माध्यम से खरीदा जा सकता है, जो काफी आसान है और इसमें एक रुपये के साथ न्यूनतम निवेश किया जा सकता है। साथ ही आपको यह बिना किसी सुरक्षित तिजोरी या बैंक लॉकर के 24 कैरेट सोना रखने में सक्षम बनाता है। यहां, विक्रेता प्रत्येक ऑनलाइन खरीद के लिए एक सुरक्षित तिजोरी में भौतिक सोने के बराबर वजन रखता है। हालांकि, इसमें जोखिम यह है कि सेबी या आरबीआई जैसा कोई नियामकीय निरीक्षण मौजूद नहीं है।

सॉवरेन गोल्ड बॉण्ड
सॉवरेन गोल्ड बॉण्ड (एसजीबी) में निवेश को लेकर हाल ही में तेजी आई है और यदि आप 5 साल से अधिक के निवेश परिदृश्य वाले दीर्घकालिक निवेशक हैं, यह अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए सबसे अच्छा विकल्प हैं। एसजीबी आरबीआई द्वारा जारी किए जाते हैं और 2.5% प्रति वर्ष की गारंटीकृत आवधिक ब्याज भुगतान की पेशकश करते हैं। साथ ही परिपक्वता पर निवेशकों को मूलधन की वापसी और 5 साल की लॉक-इन अवधि के बाद कर से छूट की निकासी सुविधा मिलती है। दरअसल, इन सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की ऑनलाइन खरीदारी पर फिलहाल 50 रुपये प्रति ग्राम की छूट है। एसजीबी का एक अन्य लाभ यह है कि उनका सेकेंडरी मार्केट में कारोबार होता है और परिपक्वता अवधि से पहले भी इसे आसानी से बेचा जा सकता है। हालांकि, अभी इसमें तरलता कम है, लेकिन भविष्य में इसमें तेजी आ सकती है।

निवेश का कौन साधन बढ़िया
वर्ष 2019 और 2020 में सोने ने 24% और 28% से अधिक रिटर्न दिया है, इसलिए हम निवेशकों को आपकी जोखिम लेने की क्षमता के आधार पर आपके निवेश का चयन करने के लिए सावधान करना चाहेंगे। भले ही पारंपरिक निवेशक पारम्परिक स्वर्ण के लिए जाने जाते हैं, लेकिन इसकी सलाह नहीं दी जाती है क्योंकि वे बड़े पैमाने पर आपके मुनाफे में सेंध लगा देते हैं। हम उच्च खरीद-बिक्री प्रसार के कारण डिजिटल स्वर्ण से दूर रहना पसंद करते हैं। वहीं 5 साल से कम की निवेश अवधि के साथ मिलेनियल, गोल्ड ईटीएफ और गोल्ड म्‍यूचुअल फंड को पसंद कर सकते हैं, क्योंकि वे अत्यधिक तरल हैं और 2% से कम वार्षिक लागत के साथ आसानी से खरीदे और बेचे जा सकते हैं। सॉवरेन गोल्ड बॉण्ड सभी के बीच पसंदीदा दांव है, जो 5 साल की लॉक-इन अवधि के बाद कर मुक्त निकासी (टैक्स फ्री रिडम्प्शन) के साथ-साथ 2.5% प्रति वर्ष का आवधिक ब्याज भुगतान देता है। इसकी सेकेंडरी मार्केट में आसानी से ट्रेडिंग की जा सकती है।
(साभार – नवभारत टाइम्स)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

16 + 2 =