एचआईटीके के शौभिक ने बनाया यौन उत्पीड़न रोकने के लिए उपकरण

0
142

कोलकाता । हेरिटेज इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के बी.टेक के तृतीय वर्ष के छात्र ने यौन उत्पीड़न को रोकने के लिए विशेष सॉफ्टवेयर तैयार किया है। बी.टेक के एप्लाइड इंस्ट्रुमेंटेशन और इंजीनियरिंग के छात्र शौभिक घोष द्वारा निर्मित यहकंप्यूटर विजन सॉफ्टवेयर विकसित आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस पर काम करता है। दावा है कि यह सर्विलेंस कैमरों के जरिए यौन उत्पीड़न को रोकने में सहायक है।
आपदा की स्थिति में उपकरण को दबाने पर इससे तेज अलार्म और सायरन की आवाज निकलेगी और आस – पास के लोद सजग हो जायेंगे। यदि व्यक्ति तर्जनी को उपकरण के सामने लाता है या नम्बर एक की तरफ इंगित करता है तो सिस्टम सीधे पुलिस को बुला देगा।
शौभिक ने सॉफ्टवेयर का नाम ‘साथी’ रखा और उन्हें लगता है कि इससे यौन शोषण को रोकने में मदद मिल सकती है जो हमारे देश में दिन-ब-दिन बढ़ रहा है।
शौभिक ने कहा, ‘मेरी रुचि डेटा साइंस, कंप्यूटर विज़न और गहन अध्ययन में है। एक तकनीकी उत्साही के साथ, मैं एक सामाजिक कार्यकर्ता और रोटारैक्ट क्लब, हेरिटेज इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी का एक सक्रिय सदस्य भी हूं। मैंने महसूस किया कि उत्पीड़न भीड़-भाड़ वाली जगहों पर होता है और कई महिलाएं सार्वजनिक स्थानों पर इसे नोटिस करने या शोर मचाने में झिझक महसूस करती हैं। वे प्रतिक्रिया नहीं दे पातीं। इसने मुझे ‘साथी’ विकसित करने के लिए प्रेरित किया है,”
हेरिटेज ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस, कोलकाता के सीईओ पी के अग्रवाल ने कहा, “हेरिटेज इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में, हम एक व्यापक आधारित शोध मंच प्रदान करते हैं जहां छात्र कुछ वास्तविक समय परियोजनाओं का आविष्कार कर सकते हैं जो देश भर में लोगों के सामने आने वाली कई समस्याओं का समाधान दे सकते हैं।”
एचआईटी की एप्लाइड इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंस्ट्रुमेंटेशन इंजीनियरिंग की विभागाध्यक्ष डॉ. मधुरिमा चट्टोपाध्याय ने कहा, “शौभिक वास्तव में एक मेहनती छात्र है और उसका विश्लेषणात्मक दृष्टिकोण सराहनीय है।”

Previous articleयुवाओं को उद्यमी बनाने हेतु परिचर्चा
Next articleश्रीराम नवमी पर विशेष : जहाँ माता सीता के लिए श्रीराम ने अपने बाणों से प्रवाहित की जलधारा
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × 3 =