एमएमयूटी के प्रोफेसर ने विकसित किया अनोखा सोलर सिस्टम

0
16

न धूप की जरूरत, न पैनल की, बनाएगी बिजली
लखनऊ । उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में सोलर एनर्जी के क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव होने वाला है। मदन मोहन मालवीय टेक्निकल यूनिवर्सिटी, गोरखपुर ने नए खोज के जरिए ऊर्जा के क्षेत्र को एक अलग स्तर पर ले जाने की कोशिश की है। दावा यह किया जा रहा है कि सौर ऊर्जा से बिजली बनाने के लिए अब सूरज को बादलों से बाहर आने की जरूरत नहीं होगी। सोलर पैनल की आवश्यकता भी नहीं होगी। दिन की गर्मी को ही ऊर्जा में बदलकर प्रयोग किया जा सकता है। इस नए प्रयोग को अमली जामा पहनाने की तैयारी कर ली गई है। अगर ऐसा संभव हुआ तो फिर फिर यह बड़े ऊर्जा प्लांटों से कम खर्चीला साबित होगा। इससे लोगों को ऊर्जा की भरपूर उपलब्धता कराने में भी सफलता मिल सकेगी।
मदन मोहन मालवीय टेक्नोलॉजी यूनिवर्सिटी, गोरखपुर के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉक्टर प्रशांत सैनी ने इस नए सोलर प्लांट का कॉन्सेप्ट तैयार किया है। आधुनिक सोलर प्लांट में बादलों के पीछे छिपे सूरह को भी ऊर्जा प्राप्त कर लेने की क्षमता होगी। यह प्लांट 10 डिग्री सेल्सियस तक की गर्मी को भी सौर ऊर्जा में बदल देगा। इस सोलर प्लांट का प्रयोग ऐसे स्थानों पर किया जा सकेगा, जहां कई दिनों तक धूप नहीं निकलती है। संस्थान के मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग अध्यक्ष प्रो. जीऊत सिंह के मार्गदर्शन में इस शोध कार्य को पूरा कराया गया है। डॉ. प्रशांत की ओर से तैयार किए गए सोलर प्लांट के प्रारूप से संबंधित शोध पत्र को यूनाइटेड किंगडम के अंतरराष्ट्रीय जर्नल एनर्जी कन्वर्जन एंड मैनेजमेंट ने भी प्रकाशित किया है।
सोलर प्लेट भी जरूरी नहीं
सोलर एनर्जी के लिए छतों पर या फिर खाली स्थानों में आप सोलर प्लेट लगा जरूर देखे होंगे। लेकिन, डॉ. प्रशांत के शोध में इसकी जरूरत नहीं होती है। कंबाइंड कूलिंग, हीटिंग, पावर एंड डिसैलिनेशन नामक यह सोलर प्लांट सौर ऊर्जा की जगह वातावरण की गर्मी से खुद को चार्ज कर सकता है। दरअसल, इस नए इनोवेशन के तहत थर्मल आयल से भरी इनक्यूबेटेड ट्यूब से बना सोलर क्लेक्टर सौर ऊर्जा को एकत्र कर सकता है। फेज चेंज मटेरियल टैंक में उसे सुरक्षित करके बिजली से चलने वाले यंत्रों को संचालित किया जा सकता है। इस नई तकनीक के जरिए दूषित पानी को भी पेयजल में परिवर्तित किया जा सकेगा।
डॉ. प्रशांत को इस शोध में आईआईटी बीएचयू के मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के प्रो. जे. सरकार का भी सहयोग मिला है। डॉ. प्रशांत अब साइंस एंड टेक्नोलॉजी मंत्रालय की ओर से मिलने वाली आर्थिक सहायता के माध्यम से प्लांट को भौतिक रूप देने में जुटे हुए हैं।
ऐसे तैयार होगी बिजली
डॉक्टर जीऊत सिंह का कहना है कि 600 डिग्री सेल्सियस तक बॉयलिंग पॉइंट वाले थर्मल आयल से इन्क्यूबेटेड ट्यूब से बने सोलर क्लेक्टर सूर्य की ऊर्जा एकत्र होगी। यहां से उसे फेज चेंज मटेरियल टैंक में भेजा जाएगा। उसमें अपेक्षाकृत कम बॉयलिंग पॉइंट कार्बोनेटेड लिक्विड को यह वाष्पीकृत करना शुरू कर देंगी। कार्बोनेटे मटेरियल में एन ब्यूटेन, एन पेंटेन आदि मुख्य रूप से रहेगा। वाष्पीकरण की पक्रिया से मिली ऊर्जा टरबाइन को चलाएगी। इससे बिजली का निर्माण शुरू हो जाएगा। बिजली बनाने की प्रक्रिया दिन में होगी। दिन ढलने के बाद भी बिजली बनने की प्रक्रिया लगातार जारी रहेगी।
गैर परंपरागत ऊर्जा स्रोत को बढ़ावा देना उद्देश्य
सौर ऊर्जा के क्षेत्र में नए इनोवेशन को लेकर एमएमयूटी के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. प्रशांत सैनी का कहना है कि इस सोलर प्लांट का उद्देश्य गैर परंपरागत ऊर्जा को बढ़ावा देना है। अभी तक हुए शोध कार्य के आधार पर अनुमान है कि इस प्लांट से प्रति यूनिट बिजली बनाने में 8.50 रुपये का खर्च आएगा। इसमें किसी प्रकार की बैटरी का उपयोग नहीं किया जा रहा है। इससे यह प्लांट पर्यावरण संरक्षण की दिशा में भी मील का पत्थर साबित होगा।

Previous article108 साल पुराने हिंदुजा समूह का होगा बंटवारा!
Next articleभारतीय सेना में पहली बार स्टाफ कॉलेज के लिए चयनित हुईं महिला अधिकारी
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × 3 =