एमसीसीआई और स्टील सिनैरियो ने आयोजित की सीईओ मीट

0
46

कोलकाता । मर्चेन्ट्स चेम्बर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री एवं स्टील सिनैरियो जर्नल ने एक सीईओ मीट आयोजित की।
स्वागत भाषण में एमसीसीआई के अध्यक्ष ऋषभ कोठारी ने स्टील मैन्यूफक्चरिंग हब के लिए कोर कमेटी गठित करने का सुझाव दिया जिससे पश्चिम बंगाल को सबसे बड़ा स्टील निर्माण केन्द्र बनाया जा सके। उन्होंने राज्य सरकार से इस उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए राज्य में इस्पात मंत्रालय स्थापित करने का अनुरोध किया।
इस अवसर पर प्रधान अतिथि के रूप में उपस्थित श्यामा प्रसाद मुखर्जी पोर्ट, कोलकाता के उप चेयरमैन सम्राट राही ने कहा कि भारत सरकार भारत में विशेष रूप से पूर्व में इस्पात उत्पादन बढ़ाने के लिए इच्छुक है। 80 प्रतिशत लौह अयस्क और 100 प्रतिशत कुकिंग कोल पूर्व में है। उन्होंने कहा कि हल्दिया बंदरगाह पर इस्पात के परिवहन के लिए एक समर्पित बर्थ है। उन्होंने कहा कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी पोर्ट ने फ्लोटिंग क्रेन सुविधाएं शुरू की हैं और नाइट नेविगेशन सुविधाएं भी बनाई जा रही हैं। ये पहल महत्वपूर्ण हैं क्योंकि कोलकाता एक नदी बंदरगाह है जिसमें मसौदा मुद्दे हैं।
इस्पात मंत्रालय की संयुक्त संयंत्र समिति के कार्यकारी सचिव रंजन ने कहा कि द्वितीय स्तर के इस्पात क्षेत्र के लिए एक नीति बनाने की तत्काल आवश्यकता है। उन्होंने आगे उल्लेख किया कि जेपीसी भारत के लिए वैश्विक एजेंसियों के लिए इस्पात क्षेत्र में आधिकारिक डेटा प्रदाता है।

बीएसई के मुख्य व्यवसाय अधिकारी समीर पाटिल ने कहा कि बीएसई एशिया का सबसे पुराना और सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है। बीएसई में पहले से ही 375 एमएसएमई सूचीबद्ध हैं, जिनमें से 120 एमएसएमई बीएसई के मुख्य बोर्ड में सूचीबद्ध हैं। उन्होंने इस बात पर प्रकाश डाला कि स्टील अनुबंधों में मूल्य अस्थिरता के खिलाफ बचाव किया जा सकता है। बीएसई प्राइस डिस्कवरी के लिए प्लेटफॉर्म प्रदाता है।
उद्घाटन सत्र में धन्यवाद ज्ञापन स्टील सिनैरियो की सम्पादक एवं प्रकाशक शकुन्तला चन्दा ने दिया। उद्घाटन सत्र के बाद दो तकनीकी सत्र हुए। इनमें कच्चे माल और कुशल श्रमिकों को सुरक्षित करने और व्यापार के माध्यम से हरित इस्पात प्रौद्योगिकी और व्यापार विकास पर चर्चा हुई।
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए एमसीसीआई की स्टील सम्बन्धी काउंसिल के चेयरमैन दीपक कुमार अग्रवाल ने कहा कि कोयले की कमी और रैक के अभाव के कारण स्टील उद्योग को दिक्कत हो रही है। इस कमेटी के सह चेयरमैन विवेक ने कहा कि भारत सरकार ने चीन से कच्चे माल के आयात को प्रतिबंधित कर दिया है। इससे एमएसएमई द्वारा घरेलू कच्चे माल के उपयोग को बढ़ावा मिलेगा। सत्र का समापन खुली चर्चा से हुआ।

Previous articleकोविड -19 को लेकर नये निर्देश चाहता है उद्योग जगत
Next articleबजाज कंज्यूमर केयर लाया प्रीमियम मॉइस्चराइजिंग साबुन
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twelve + twelve =