‘एमसीसीआई ने आयोजित किया ‘सीएसआर कॉन्क्लेव 2022’

0
37

कोलकाता । मर्चेंट्स चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ने आज कोलकाता में कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी पर अपना पहला कॉन्क्लेव आयोजित किया। उद्घाटन सत्र में विशिष्ट अतिथि महिला एवं बाल विकास और समाज कल्याण विभाग की मुख्य सचिव संघमित्रा घोष ने कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि चेम्बर या व्यवसाय आंगनवाड़ी केंद्र में पूरक पोषण को प्रायोजित कर सकते हैं या मौजूदा आंगनवाड़ी में सुविधाओं के निर्माण में मदद कर सकते हैं या एक नया आंगनवाड़ी भवन बनाने में मदद कर सकते हैं। सरकार की बाल संरक्षण सेवाओं के लिए, सीएसआर में अधिक केंद्र बनाना, या ऐसे केंद्रों में सरकार के साथ काम करने वाले गैर सरकारी संगठनों को अपनाना शामिल हो सकता है। कन्याश्री कार्यक्रम से 80 लाख लड़कियां लाभान्वित हुई हैं और लक्ष्मी भंडार पहल से 2 करोड़ महिलाएं लाभान्वित हुई हैं। पश्चिम बंगाल में आंगनबाडी केंद्र हैं और 2.5 लाख से अधिक महिलाएं इस सेवा से जुड़ी हैं।
टाटा स्टील के सीएसआर के प्रमुख सौरव रॉय ने सीएसआर स्पेस में दो अंतरालों के बारे में बात की: पहला भारत के पूर्वी क्षेत्र में जरूरत और फंडिंग के बीच का अंतर; और दूसरा समाधान बनाने और समस्या को हल करने के बीच का अंतर है।
यूनिसेफ के फील्ड ऑफिस प्रमुख मोहम्मद मोहिउद्दीन ने कहा कि हालांकि बाल मृत्यु के मामले में पश्चिम बंगाल भारतीय औसत से बेहतर है, लेकिन चिंताजनक रूप से किशोर गर्भधारण और मातृ मृत्यु दर बढ़ रही थी। इसलिए उन्होंने शिक्षा, बाल संरक्षण और रोजगार के एसडीजी के साथ संरेखित यूनिसेफ कार्यक्रमों की रूपरेखा तैयार की है। उन्होंने कहा कि इसमें कॉर्पोरेट और गैर सरकारी संगठन उनके क्षेत्रीय कार्यालय के साथ सहयोग कर सकते हैं। कोलकाता के संबंध में, यूनिसेफ वार्ड 66 और 68 में पश्चिम बंगाल डॉक्टर्स फोरम के साथ स्लम क्लीनिक चलाता है – जिसे सीएसआर के रूप में पूरे कोलकाता में मलिन बस्तियों में बढ़ाया जा सकता है।
ब्रिटिश काउंसिल के निदेशक (पूर्व और पूर्वोत्तर भारत) देवांजन चक्रवर्ती ने कहा कि ब्रिटिश काउंसिल ने कमजोर वर्ग के बच्चों को अंग्रेजी भाषा और डिजिटल साक्षरता में शिक्षित करने के लिए ग्रामीण भारत में टीच इंडिया पहल की शुरुआत की थी।
एमसीसीआई के अध्यक्ष ऋषभ सी कोठारी ने स्वागत भाषण दिया। एमसीसीआई के वरिष्ठ उपाध्यक्ष ललित बेरीवाला ने कहा सीएसआर को अनिवार्य बनाने वाला भारत पहला देश था। इस कन्क्लेव में उद्योगजगत के कई दिग्गजों ने विचार रखे।

Previous articleनयी काव्यमय इंसानियत की यात्रा है युवा लेखन कार्यशाला:शंभुनाथ
Next articleसोशल मीडिया में बच्चों की अनुमति पर बीएचएस में ‘इंटर हाउस डिबेट 2022’
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

16 + 12 =