एसोचेम देगा रियल एस्टेट और ग्रीन बिल्डिंग सेक्टर में पुरस्कार

0
222

कोलकाता : एसोचेम और केन्द्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय के साथ अनूठी पहल की है। भारत के शीर्ष उद्योग निकाय ने भारत के पहले रियल्टी एंड सस्टेनेबिलिटी कंफ्लुएंस एंड अवार्ड्स 2020 की घोषणा की है, जो रियल एस्टेट कम्पनियों तथा पेशेवरों के योगदान को पहचानने के लिए है। 27 नवम्बर से 3 दिसम्बर 2020 तक 7 दिनों का लंबा मेगा प्लेटफॉर्म उन कुछ प्रमुख मुद्दों पर भी ध्यान केंद्रित करेगा जो इन क्षेत्रों में दिक्कतों का सामना कर रहे हैं और विभिन्न महत्वपूर्ण मामलों पर विचार-विमर्श करने के लिए हितधारकों, नीति निर्माताओं और उद्योग के नेताओं को एक वैश्विक मंच प्रदान करेंगे। रियल एस्टेट क्षेत्र की वृद्धि और स्थिरता के लिए।

एसोचेम के अध्यक्ष डॉ. निरंजन हीरनंदानी ने इस पहल की घोषणा करते हुए बताया कि कोविड -19 से पहले, अचल संपत्ति के बुनियादी ढांचे पट्टे पर देने वाली गतिविधि, नयी परियोजनाओं की शुरुआत, उपलब्ध पूंजी और बाजार की मजबूत मांग के साथ मजबूत थे। महामारी के कारण, रियल एस्टेट क्षेत्र भी बुरी तरह प्रभावित हुआ है। काम की कमी के कारण अपने गृहनगर में श्रम का प्रवासन भी अर्थव्यवस्था पर इसका प्रभाव पड़ा और अचल संपत्ति में भावनाओं को प्रभावित किया। हालांकि, हाल ही में अर्थव्यवस्था के फिर से खोलने के कारण, रियल्टी क्षेत्र ने भी पुनरुद्धार की प्रक्रिया शुरू कर दी है। ”एसोचेम के महासचिव दीपक सूद ने कहा, “भारत में रियल एस्टेट सेक्टर 2030 तक 1 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर तक पहुंचने की उम्मीद है। 2025 तक, यह देश की जीडीपी में 13 प्रतिशत का योगदान देगा। इस क्षेत्र के विकास को आगे बढ़ाने के लिए हितधारकों के लिए इस तरह एक मंच पर आना महत्वपूर्ण है। मेरा दृढ़ता से मानना ​​है कि इस क्षेत्र में बहुत सी नौकरियों का उत्पादन करने और हमारी अर्थव्यवस्था को आवश्यक गति प्रदान करने की क्षमता है। ”जेम एसोचेम, नारेडको.सीबीआरई और हीरानंदानी ग्रुपहावे जैसे विभिन्न शीर्ष संगठनों ने समय पर पहल के लिए हाथ मिलाया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eight + six =