कनाडा में जानलेवा हीट डोम का कहर, गर्मी ने तोड़ा 10 हजार साल का रिकॉर्ड

0
104

एक दिन में 230 मरे
कनाडा के आसामान में बने हीट डोम के कारण गर्मी ने 10000 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। ब्रिटिश कोलंबिया प्रांत में तो पारा 49.44 डिग्री सेल्सियस तक रिकॉर्ड किया गया है। अत्याधिक गर्मी के कारण एक दिन में ही 230 लोगों की मौत हो गई है। ब्रिटिश कोलंबिया के प्रीमियर जॉन होर्गन ने मौत की पुष्टि करते हुए कहा कि उनके राज्य में तापमान के चरम तक पहुंचने के कारण 230 लोगों की मौत हुई है।
गत रविवार से पहले कनाडा में कभी भी तापमान 113 डिग्री फारेनहाइट यानी 45 डिग्री सेल्सियस से अधिक नहीं गया था। तापमान का यह रिकॉर्ड साल 1937 में बना था। लेकिन इस बार 10 हजार साल में एक बार बनने वाले हीट डोम के कारण तापमान 49 डिग्री सेल्सियस को भी पार कर गया। अधिकारियों का कहना है कि अकेले वैंकूवर में गर्मी के कारण 65 लोगों की मौत हुई है।
कनाडा की मौसम सेवा ने कहा कि इस अत्यधिक गर्मी को शब्दों का वर्णन नहीं कर सकता है। मौसम विभाग ने बताया कि ब्रिटिश कोलंबिया का रिकॉर्ड अब लास वेगास में दर्ज किए गए अबतक के सबसे उच्चतम तापमान से भी अधिक है। यह हीटवेव कनाडा से लेकर अमेरिका तक फैली हुई है। अमेरिका के वाशिंगटन और ओरेगन में भी रिकॉर्ड तापमान का अनुभव किया जा रहा है।

क्या है हीट डोम, जिसने मचाई तबाही
कनाडा में पिछले 10 हजार साल में पहला मौका है, जब हीट डोम ने गर्मी बढ़ाकर तबाही मचाई है। इसके कारण गर्मी वायुमंडल में अधिक फैलती है और दबाव और हवा के पैटर्न को प्रभावित करती है। गर्म हवा का यह ढेर उच्च दबाव वाले क्षेत्र में फंस जाता है। इससे आसपास की हवा और भी ज्यादा गर्म होती है। यह बाहरी हवा को अंदर नहीं आने देता है और अंदर की हवा को गर्म बनाए रखता है।
10 हजार साल में पहली बार ऐसा हुआ
अमेरिकी मीडिया सीबीएस के मौसम वैज्ञानिक जेफ बेरार्डेली ने कहा कि अगर आंकड़ों के हिसाब से बात करें तो 10000 साल में हीट डोम जैसी घटनाएं केवल एक बार होती हैं। अगर आप किसी स्थान पर पिछले 10 हजार साल से रह रहे हों तो आप केवल एक बार हीट डोम की गर्मी का अनुभव कर पाएंगे। बर्नाबी रॉयल कैनेडियन माउंटेड पुलिस के कैप्टन माइक कलांज ने कहा कि उन्हें पिछले 24 घंटे के अंदर लोगों के मौत के 25 फोन आए।

(साभार – नवभारत टाइम्स)

Previous article‘छत्रकुंवरी मम नाम है कहिबै को जग मांहि’
Next articleलघु बचत वाली योजनाओं की ब्याज दर में कोई बदलाव नहीं
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × 3 =