कर्नाटक के स्कूलों में पढ़ाई जाएगी गीता, महाभारत और पंचतंत्र की कहानियां

0
28

बेंगलुरु । कर्नाटक सरकार अगले शैक्षणिक वर्ष से स्कूली पाठ्यक्रम में हिंदू महाकाव्य कहानियां- ‘भगवद गीता’ और ‘महाभारत’ शामिल करने के लिए पूरी तरह तैयार है। इससे संबंधित सारी तैयारियां कर ली गई हैं। पाठ्यक्रम तैयार है और अगले सत्र से इसकी पढ़ाई शुरू कर दी जाएगी। हालांकि इस संबंध में कुछ समय पहले एक प्रस्ताव रखा गया था, लेकिन सत्ताधारी भाजपा सरकार ने विपक्ष को देखते हुए इसे ठंडे बस्ते में डाल दिया था। अब सरकार ने साफ कहा है कि स्कूलों में इन हिंदू महाकाव्यों को पढ़ाया जाएगा।
शिक्षा मंत्री बीसी नागेश ने कहा, ‘अगले साल से, नैतिक शिक्षा को स्कूली पाठ्यक्रम में जोड़ा जाएगा। ‘भगवद गीता’, ‘महाभारत’ और ‘पंचतंत्र कहानियां’ भी नैतिक शिक्षा का हिस्सा होंगी।’ उन्होंने कहा कि जो भी विचारधाराएं बच्चों को उच्च नैतिकता में मदद करती हैं, उन्हें नैतिक शिक्षा में अपनाया जाएगा। यह एक धर्म तक ही सीमित नहीं होगा। विभिन्न धार्मिक ग्रंथों के पहलुओं को अपनाया जाएगा जो बच्चों के लिए फायदेमंद हैं। हालांकि, एक विशेष धर्म के पहलुओं का पालन किया जाएगा।
मंत्री नागेश ने यह भी स्पष्ट किया कि मैसूर साम्राज्य के पूर्व शासक टीपू सुल्तान का शीर्षक ‘मैसुरु हुली’ (मैसूर का शेर) पाठ्य पुस्तकों में रखा जाएगा। भाजपा विधायक अप्पाचू रंजन ने टीपू सुल्तान पर पाठ्य पुस्तकों से सबक हटाने की मांग की है। विधायक रंजन आग्रह कर रहे हैं कि अगर टीपू सुल्तान पर सबक सिखाया जाए तो सभी पहलुओं को पढ़ाया जाना चाहिए। टीपू एक कन्नड़ विरोधी शासक था जिसने प्रशासन में फारसी भाषा थोप दी थी। कोडागु में उसके अत्याचार बच्चों को भी सिखाए जाने चाहिए।
विधायक ने कहा कि टीपू पर पाठ नहीं हटाया जाएगा लेकिन अनावश्यक विवरण हटाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि किन पहलुओं को छोड़ दिया जाएगा, इसका विवरण बाद में बताएंगे। मंत्री नागेश ने आगे कहा कि उर्दू स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के माता-पिता ने उनसे उन स्कूलों में समकालीन पाठ्यक्रम शुरू करने का अनुरोध किया है। उन्हें डर है कि उनके बच्चे इस प्रतिस्पर्धी दुनिया में पिछड़ जाएंगे। हालांकि, मदरसों या अल्पसंख्यक कल्याण विभाग की ओर से ऐसी कोई मांग नहीं है, उन्होंने कहा।

Previous articleदक्षिण 24 परगना जिले के बारुईपुर तक जा सकती है मेट्रो ट्रेन परियोजना
Next articleलेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे होंगे अगले थलसेना प्रमुख
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

18 + twenty =