कुन्नर हादसा : ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का बेंगलुरु के अस्पताल में निधन

0
161

 नयी दिल्ली : तमिलनाडु के कुन्नर में हुए हेलीकाप्टर हादसे में एकमात्र जीवित बचे ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का निधन हो गया है। बीती 8 दिसंबर को क्रैश हुए एमआई17 वी5 हेलीकाप्टर में वो एकमात्र जीवित बचे थे। उनका इलाज कमांड अस्पताल, बेंगलुरु में चल रहा था, जहां उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया था। दुर्घटना में सीडीएस जनरल बिपिन रावत और 12 अन्य लोगों की मौत हो गई थी। भारतीय वायुसेना ने ट्वीट कर कहा कि यह बताते हुए काफी दुख हो रहा है कि ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का इलाज के दौरान आज निधन हो गया है। वो 8 दिसंबर 2021 को हुए हादसे में अकेले जीवित बचे थे। एयरफोर्स उनके निधन पर गहरी संवेदना व्यक्त करता है और उनके परिवार के साथ मजबूती से खड़ा है। ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह यूपी के देवरिया के खोरमा कन्हौली गांव के रहने वाले थे, लेकिन उनका जन्म दिल्ली में हुआ था। उनके पिता कृष्ण प्रताप सिंह सेना से कर्नल के पद से रिटायर हुए हैं। बचपन से ही उनकी परवरिश फौजी वातावरण में हुई, उनका छोटा भाई तनुज सिंह नव सेना में हैं। अपने पीछे वरुण सिंह पत्‍नी गीतांजली बेटे रिद रमन और बेटी आराध्या को छोड़ गए हैं, फिलहाल उनका परिवार भोपाल में रहता है।

एमआई17 वी5 हैलीकाप्टर क्रैश हादसे के बारे में जानकारी देते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने संसद को बताया था कि, 8 दिसंबर 2021 को दोपहर के वक्त भारतीय वायुसेना का एमआई17 वी5 हेलीकाप्टर कुन्नूर के पास क्रैश हो गया। इस हादसे में सीडीएस जनरल बिपिन रावत समेत 12 लोगों की मौत हो गई। जनरल बिपिन रावत वेलिंग्टन स्थित डिफेंस सर्विस स्टाफ कालेज के पूर्वनिर्धारित दौरे पर थे। वायुसेना के एमआई 17 हेलिकॉप्टर ने सुलूर एयरबेस से 11बजकर 48मिनट पर उड़ान भरी। इसे 12बजकर 15 मिनट पर वेलिंग्टन में लैंड करना था, लेकिन 12बजकर 08मिनट पर यह क्रैश हो गया। इस दुर्घटना में सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत, ब्रिगेडियर एल एस लिड्डर, कर्नल हरजिंदर सिंह, लांस नायक विवेक कुमार, नायक गुरुसेवक सिंह , लांस नायक बी साई तेजा, नायक जितेंद्र कुमार, हवलदार सतपाल राई, विंग कमांडर पीएस चौहान, स्क्वॉड्रन लीडर कुलदीप सिंह, राणा प्रताप दास, जेडब्ल्यूओ प्रदीप का उसी दिन निधन हो गया था।

Previous articleसुष्मिता और लारा के बाद भारत की हरनाज बनीं मिस यूनिवर्स 2021
Next articleविजय दिवस पर विशेष: जब पाकिस्तानी जनरल को मौत के मुंह से बचा दिये हमारे जवान
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × 1 =