केरल की के सी रेखा हैं भारत की पहली फिशर वुमन

0
277

दस साल पहले पति की मदद के लिए की थी फिशिंग की शुरुआत

भारत के पारंपरिक फिशिंग समुदाय में महिलाएं मछुआरन के तौर पर कम ही देखी जाती हैं। आमतौर पर वे घर में ही रहती हैं और अपने पति के समुद्र किनारे से लौटने का इंतजार करती हैं। वहीं केरल के थ्रिशूर जिले के चवक्कड़ गांव की रहने वाली रेखा भारत की पहली फिशर वुमन हैं। उन्हें भारत सरकार की ओर से इंटरनेशनल बॉर्डर पर समुद्र की गहराईयों में जाकर मछली पकड़ने का लाइसेंस प्राप्त है।

 

रेखा ने इस काम की शुरुआत दस साल पहले की थी। रेखा के पति कार्तिकेयन समुद्र में मछली पकड़ने जाते थे। एक बार समुद्र में उनकी मदद करने वाली दोनों मछुआरे यह काम छोड़कर चले गए। आर्थिक तंगी के चलते कार्तिकेयन के पास इतने पैसे भी नहीं थे कि वे अपनी मदद के लिए किसी को रख सकें। जब ये बात उसने अपने घर में रेखा को बताई तो वह खुद पति की मदद के लिए तैयार हो गई।
रेखा ने कभी तैराकी नहीं की थी। यहां तक कि इससे पहले उन्हें समुद्र के किनारे

Previous articleसात साल की लिजा ने अपनी ब्रेज सर्जरी के लिए लेमोनेड बेचकर जुटाये पैसे
Next articleउद्यमी विधि सिंघल के व्यवसाय की कमान महिलाओं के हाथ में
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

thirteen − 6 =