कैंसर ने छीना महानगर के युवा टीवी पत्रकार का निधन

0
27

कोलकाता । कोलकाता के युवा टीवी पत्रकार स्वर्णेन्दु दास के निधन पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दुख जताया है। 40 वर्ष से कम उम्र के स्वर्णेन्दु का कैंसर की वजह से मंगलवार को निधन हो गया। उन्होंने एक निजी अस्पताल में आखिरी सांस ली। उनके निधन पर मीडिया जगत में शोक की लहर पसरी हुई है। ढ़ाई साल की बेटी के नाम सोशल मीडिया पर उनकी पोस्‍ट पढ़कर हर किसी का दिल भर आता है। इतनी कम उम्र में एक साथी का यूं चले जाना महानगर के मीडिया कर्मियों के लिए सदमे से कम नहीं है।
स्वर्णेन्दु बेहद ऊर्जावान पत्रकार थे। फील्ड में रिपोर्टिंग के समय साथियों से हमेशा मुस्कुरा कर बातें करना, एक दूसरे की मदद और हर जरूरत पर खड़े रहने वाले स्वर्णेन्दु हर किसी के अजीज थे। उनके निधन पर दुख व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्वीट किया, “कोलकाता के एक युवा पत्रकार स्वर्णेन्दु दास के निधन की खबर दिल दहलाने वाली है। पत्रकारिता की दुनिया ने एक काफी प्रतिभाशाली शख्स को खो दिया है। मैं अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करती हूं तथा उनके परिजनों, दोस्तों, शुभचिंतकों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं।”
उल्लेखनीय है कि पिछले कुछ समय से वह अस्पताल में भर्ती थे। कैंसर का दर्द उनके लिए असहनीय हो चला था। इसी बीच 15 अगस्त को उन्होंने अपनी बेटी के साथ सोशल मीडिया पर एक फोटो डाली थी और लिखा था, (हिंदी में अनुवाद) “यह तस्वीर इस साल की नहीं पिछले साल की है। बेटी की उम्र दो वर्ष से थोड़ी अधिक है। सुबह-सुबह इलाके में झंडा फहराने के लिए मैं निकला था। स्कूटर पर सामने बेटी कुहू को बैठाकर इलाके के स्कूल, क्लब सहित कई जगहों पर झंडोत्तोलन में मैं शामिल हुआ। मेरे साथ मेरी बेटी ने हाथ में पुष्प लेकर वीर स्वतंत्रता सेनानियों नेताजी सुभाष चंद्र बोस, महात्मा गांधी आदि को श्रद्धांजलि दी। क्षमा करना बेटी इस बार मैं तुम्हें साथ लेकर ऐसा नहीं कर पाया। तुम्हें कहीं लेकर भी नहीं जा सका। पिछले साल की बातें तो तुम्हें याद भी नहीं होंगी लेकिन यह तस्वीर सारे दिन मेरी आंखों से आंसू बहाती रही। मेरी प्यारी लाडली मैं नहीं जानता कि जीवन में तुमको फिर कभी कहीं घुमा सकूंगा, झंडा फहराने ले जा सकूंगा या नहीं। अगर नहीं ले जा पाऊं तो मेरी बातें सुनकर कम से कम आज का दिन गुजार लेना।”

 

Previous articleविभाजन पर आधारित डिजिटल संग्रहालय की कोलकाता में होगी शुरुआत
Next articleनए अवतार में फिर हुगली नदी में फिर दिखेगा 1940 का पैडल स्‍टीमर
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

11 + 15 =