कोरोना के बीच कबाड़ बेचकर ही रेलवे हुआ मालामाल

0
31

 आरटीआई में खुलासा, कमाये 4575 करोड़
नयी दिल्ली : कोरोना के कारण रेलवे सेवा ठप पड़ी है, राजस्व का नुकसान हो रहा है पर आप नहीं जानते है कि कोरोना काल में भी रेलवे की कमाई हो रही है और वह भी हजार करोड़ की। दरअसल, कोरोना काल में रेलवे ने केवल कबाड़ बेचकर 4575 करोड़ रुपये कमाये हैं और यह खुलासा आरटीआई में हुआ है। सूचना का अधिकार (आरटीआई) के तहत मिले एक जवाब से पता चला कि 2020-21 में रेलवे को इस मद में अब तक की सर्वाधिक 4575 करोड़ रुपये की आय हुई। इससे पहले 2010-11 में कबाड़ बेचकर 4,409 करोड़ रुपये का राजस्व जुटाया गया था। पटरियों का पुराना होना, पुरानी लाइन को बदलने, पुराने ढांचे को त्यागने, पुराने इंजन, डिब्बों आदि से कबाड़ सामग्री बनती है। तेजी से रेल रूट्स के विद्युतीकरण, डीजल इंजनों को बदलने और कारखानों में निर्माण के दौरान भी कबाड़ सामग्री बनती है। पिछले कुछ वर्षों में रेलवे के लिए यह आय का अच्छा खासा स्रोत रहा है।
मध्य प्रदेश के चंद्र शेखर गौड़ द्वारा आरटीआई कानून के तहत मांगी गयी सूचना के जवाब में रेलवे बोर्ड ने कहा कि कोविड-19 महामारी से प्रभावित 2020-21 में रेलवे को कबाड़ से पिछले साल की तुलना में पांच प्रतिशत अधिक आय हुई। रेलवे ने कहा कि 2019-20 में 4,333 करोड़ रुपये की कबाड़ सामग्री की बिक्री की गयी और 2020-21 में कबाड़ से 4,575 करोड़ रुपये की आमदनी हुई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

11 + fourteen =