कोरोना प्रभाव : एयरपोर्ट पर बढ़ी हल्दी दूध, तुलसी, रसम, शिकंजी की माँग

0
217

नयी दिल्ली : कोरोनावायरस (कोविड-19) महामारी के बाद लोग पौष्टिक आहार फूड व पेय पर ज्यादा ध्यान दे रहे हैं। इन दिनों इम्यूनिटी बढ़ाने वाले उत्पादों की माँग बढ़ी है। यही वजह है कि एयरपोर्ट के लॉन्ज में भी पौष्टिक मेनू रखे जा रहे हैं। मई से घरेलू उड़ानें शुरू हैं। इस दौरान ज्यादातर एयरपोर्ट पर बेवरेज में हल्दी दूध, तुलसी मिंट शिंकजी, रसम, शैफरॉन सत्तु शेक, आंवला और पन्ना जैसे इम्यूनिटी बूस्टर उत्पादों की बिक्री में तेजी आई है। इस मामले में नॉनवेज की मांग पीछे रह गई है।
हल्दी दूध और तुलसी मिंट शिकंजी मेनू का अहम हिस्सा
महामारी के ज्यादातर यात्री घर का पका हुआ खाना ही पसंद कर रहे हैं। एयरपोर्ट लॉन्ज या रेस्तरां में सिर्फ उन्हीं आहार या बेवरेज की बिक्री हो रही है जो कि हेल्दी और इम्यून पावर को बढ़ाने में मदद करती हैं। एक अधिकारी के मुताबिक, हल्दी दूध दिल्ली हवाई अड्डे पर तीसरा सबसे अधिक बिकने वाला बेवरेज आइटम है। वहीं, कोलकाता एयरपोर्ट पर तुलसी मिंट शिकंजी है। रसम चेन्नई एयरपोर्ट पर पसंदीदा बेवरेज बना है। ऐसे में अब इम्यूनिटी बूस्टर प्रोडक्ट की मार्केटिंग के बारे में सोचा जा रहा है।
एयरपोर्ट पर दही चावल की बिक्री 20% बढ़ी
इस समय एयरपोर्ट लॉन्ज में दही चावल की माँग में तेजी देखी गयी है। यह हल्का होने के साथ ही पौष्टिक आहार भी है इस वजह से इसकी बिक्री बढ़ी है। बता दें कि कोरोना से पहले दही चावल की मात्र 2-3% बिक्री ही होती थी अब यह बढ़कर 15-20% से ज्यादा हो गयी है। यह ग्राहकों के बीच पसन्द की जा रही है। वहीं मांसाहार की माँग में कमी आई है। मेनू के साथ ही खाने का ऑर्डर देने का तरीका भी बदल गया है। अब खाना स्मार्टफोन और आईपैड पर ऑर्डर किया जा रहा है। यहां मेनू पढ़ कर, क्यूआर कोड स्कैन करके ऑनलाइन भुगतान किया जा रहा है। वहीं, प्री-पैक्ड मील की जगह अब स्पिल-प्रूफ बॉक्स न्यू नार्मल बन गया है। हालांकि अधिकांश टर्मिनल के अंदर रेस्तरां अभी भी बंद हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

nine + six =