कोरोना में बंद हुआ स्कूल तो शिक्षिका ने बनायी बैलगाड़ी पर मोबाइल लाइब्रेरी

0
69

बैतूल । कोरोना महामारी के चलते स्कूल बंद चल रहे हैं। बच्चे स्कूल नहीं आ पा रहे हैं, इसलिए उनको सरकारी किताबें मिलनी भी बंद हो गईं थीं। ऐसे में मध्य प्रदेश के बैतूल जिले की एक शिक्षिका कमला दवन्डे ने देश के नौनिहालों तक किताबें पहुंचानें के लिए जुगाड़ लाइब्रेरी तैयार कर दी। उन्होंने गांव में ही बैलगाड़ी की व्यवस्था की। उसमें किताबें सजाकर उसे लाइब्रेरी की तरह बना डाला। अब यह बैलगाड़ी लाइब्रेरी घर-घर जाकर किताबें बांट रही है। बैलगाड़ी में टंगी किताबें और पीछे-पीछे चलते बच्चे। ये तस्वीर बैतूल के भैंसदेही विकासखंड के झल्लार संकुल की है। रामजी ढाना के प्राइमरी स्कूल में शिक्षिका कमला दवन्डे का पढ़ाई को लेकर यह आइडिया सराहा जा रहा है। यह ‘बैलगाड़ी लाइब्रेरी’ ने बच्चों तक न सिर्फ किताबें पहुंचाईं, उनकी घर बैठे पढ़ाई में मदद भी की।

हमारा घर, हमारा विद्यालय
शिक्षिका की ये लाइब्रेरी थी तो दो दिन के लिए , लेकिन इसने बच्चों और उनके अभिभावकों में उत्साह जगाया। बच्चों में बांटने के लिए यह किताबें पिछले शनिवार ही स्कूलों को बच्चों में वितरण के लिए मिली है। रामजी ढाना में 87 बच्चे पढ़ते हैं। इन बच्चों तक एक साथ किताबें पहुंचाने कैसे होता। इसके लिए स्कूल के पास न तो कोई वाहन है न प्यून। टीचर कमला के मुताबिक स्कूल में दो शिक्षक हैं। वे अकेली ड्यूटी पर हैं, जबकि दूसरी कोरोना संक्रमण के चलते छुट्टी पर है। ऐसे में इतनी किताबें कैसे ढोई जातीं। तब उन्होंने स्कूल के पड़ोस से 50 रुपए रोज के किराये पर बैलगाड़ी लेकर इसे लाइब्रेरी की शक्ल देकर दो दिनों तक इसे चलाकर किताबें बांटीं।

थाली की ताल पर मोहल्ला क्लास
शिक्षिका की बैलगाड़ी लाइब्रेरी के अलावा उनकी मोहल्ला क्लास भी खास है। गांव में अलग अलग घरों में यह मोहल्ला क्लास लगती है। इसका आगाज बड़े अनोखे ढंग से होता है। जिस पालक के घर बच्चों की क्लास लगती है। वह घर की थाली और चम्मच को बजाता है। इस ताल के साथ मोहल्ला क्लास की शुरुआत होती है। इसमें कमला बच्चों को पढ़ाई करवाती हैं। कमला ने बताया कि वे हर दिन 5 या 6 मोहल्ला क्लास लगाती हैं। इसमें कक्षा एक से पांच के बच्चों को पढ़ाया जाता है।

(साभार – दैनिक भास्कर)

 

Previous articleघर में जब आएं अनजाने लोग, रखें ध्यान
Next article3 बजे उठकर योग, उबला खाना, ये हैं 126 साल के पद्मश्री शिवानंद बाबा
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two + eighteen =