रक्षक फाउंडेशन ने पैरोल पर आए तीन कैदियों को उनके काम के लिए किया सम्मानित

0
61

कोलकाता । हाल ही में रक्षक फाउंडेशन की तरफ से पैरोल पर आए कुछ कैदियों के लिए उनके बेहतर कार्य हेतु सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। इस दौरान पैरोल पर आए तीन कैदियों को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर पूर्व डीजीपी आईपीएस मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे। वहीं संयुक्त आयुक्त आईपीएस सुजय चंदा भी उपस्थित रहे। इस अवसर पर सामाजिक कार्यकर्ता व रक्षक फाउंडेशन की तरफ से चैताली दास ने कहा कि इस प्रकार के सम्मान समारोह के आयोजित करने का हमारा मुख्य लक्ष्य इनके जीवन को बेहतर बनाने का है। जीवन में मौका भी उन्हीं को मिलता है जिनमें कुछ अच्छा करने व बनने की इच्छा होती है। उन्होंने बताया कि आजीवन कारावास काट रहे तीन दोषियों मैदुल मोल्लाह, मुक्खलेचुर रहमान मंडल और इंद्रजीत पॉल को कोरोना के दौरान पैरोल दी गई थी। उन्होंने अपने जीवन को बदलने और समाज को कुछ वापस देने का फैसला किया। रक्षक फाउंडेशन ने उन्हें जूट के क्षेत्र में अच्छा करने का मौका दिया और उन्होंने करके दिखाया भी। चैताली ने बताया कि उनकी फाउंडेशन के साथ वे 2016 से ही दमदम केंद्रीय सुधार गृह में काम कर रहे हैं। कोरोना के दौरान पैरोल मिली थी लेकिन अब जेल वापस जाने का समय आ गया है। वहीं संयुक्त आयुक्त आईपीएस सुजय चंदा ने मैदुल मोल्लाह, मुक्खलेचुर रहमान मंडल और इंद्रजीत पॉल की कड़ी मेहनत की सराहना करते हुए कहा कि जीवन में बेहतर होने और दुनिया को कुछ साबित करने के लिए जो उन्होंने हासिल किया है वह जीने का एक बेहतर उद्देश्य है।

Previous articleअंतर पीएसयू महा‍कवि निराला काव्‍य आवृत्ति प्रतियोगिता सम्पन्न
Next articleसुशीला बिड़ला में आयोजित हुआ कॅरियर फेयर -2022
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eighteen − three =