खुदीराम बोस सेंट्रल कॉलेज में मनाई गई स्वामी विवेकानंद जयंती

0
18

कोलकाता। कोलकाता के सुप्रतिष्ठित खुदीराम बोस सेंट्रल कॉलेज में स्वामी विवेकानंद जयंती मनाई गयी। सर्वप्रथम कॉलेज से लेकर स्वामी विवेकानंद के घर तक कॉलेज के विद्यार्थियों और शिक्षकों की एक प्रभात फेरी निकाली गयी। स्वागत गीत प्रो. पायल नंदी, डॉ. चंद्रानी दत्ता, प्रो. अनुराधा बनर्जी, प्रो. रिया चक्रवर्ती और प्रो. देवोलिना भट्टाचार्य ने प्रस्तुत किया। इस मौके पर स्वागत वक्तव्य देते हुए कॉलेज के प्राचार्य डॉ सुबीर कुमार दत्ता ने स्वामी जी के अध्यात्मिक जीवन के विभिन्न पक्षों पर विस्तार से चर्चा की। उन्होंने कहा कि स्वामी जी ने शिक्षा के क्षेत्र में जो योगदान दिया है वो बहुत ही दुलर्भ है। हमें उनसे प्रेरणा लेनी चाहिए और खुद को विकास के राह पर अग्रसर करना चाहिए। मुख्य वक्ता के तौर पर रामकृष्ण मिशन,बेलुर मठ के श्रीमत स्वामी बालाभद्रनंद ने कहा कि जिस तरह स्वामी जी ने देश के उत्थान के लिए खुद को समर्पित कर दिया। हमें भी अपने देश और समाज के उत्थान के लिए यथासंभव प्रयास करना चाहिए। रामकृष्ण मिशन विद्यामंदिर के प्रिंसिपल श्रीमत महाप्रज्ञानंद महाराज ने कहा कि हमें स्वामी विवेकानंद जी को व्यवहारिक तौर पर अपने जीवन में शामिल करते हुए हमें सबसे पहले अपने लक्ष्य को तय करना चाहिए। उसके बाद उस लक्ष्य को आत्मविश्वास के साथ अर्जित करना चाहिए। कॉलेज प्रेसिडेंट देवाशीष मल्लिक ने कहा कि हमें स्वामी जी से यह सीखने की जरूरत है कि हम सबसे पहले मनुष्यता को ध्यान दें न कि धर्म को। आईक्यूएससी कोडिनेटर प्रो. अनामिका नंदी ने कहा कि हम सभी को यांत्रिकता को छोड़कर मनुष्यता पर ध्यान देना चाहिए। डॉ शिव रंजन चट्टोपाध्याय ने कहा कि सभी को स्वामी विवेकानंद जी के बारे जानना चाहिए और उनकी बातों को अपने जीवन में शामिल करना चाहिए। प्रो. अरिंदम मुखोपाध्याय ने स्वामी जी के जीवन के बारे में बताते हुए सुंदर गीतों की प्रस्तुति की। नरेंद्र से स्वामी विवेकानंद बनने की कहानी को प्रो. सोमनाथ भट्टाचार्य, प्रो. रामकृष्ण घोष, प्रो. राजदीप मंडल, प्रो. अनुराधा मुखर्जी, प्रो.तापस बर्मन, सम्राट चक्रवर्ती, इमॉन घोष, शुभोजीत साह, तनमय आचार्य, अनुभव बनर्जी, रथिंद्र बिहारी हाजरा और मयुख मंडल ने नाटक के माध्यम से प्रस्तुत किया। इस मौके पर कॉलेज के विद्यार्थी रितायन, वैधर्वी, देवब्रत और सम्राट ने काव्यपाठ किया। प्रणव चट्टोपाध्याय ने एक सुंदर गीत प्रस्तुत किया। विद्यार्थियों के लिए पिजूस मैजिसियन का मैजिक शो का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का सफल संचालन और धन्यवाद ज्ञापन प्रो. देवोलिना भट्टाचार्य ने किया।

Previous articleनमित बाजोरिया एमसीसीआई के नये अध्यक्ष
Next articleमकर संक्रांति के 10 रोचक तथ्य
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twenty − 16 =