गजल का फॉरमेट बदलना पड़ेगा : हरिओम

0
156

हरिओम एक आई ए एस अधिकारी हैं और इस समय लखनऊ में पदस्थापित हैं। ये न सिर्फ गाते हैं बल्कि लेखक भी हैं। हाल ही में सांस्कृतिक पुनर्निर्माण मिशन द्वारा आयोजित हिन्दी मेले के रजत जयन्ती वर्ष में प्रस्तुति के लिए वे कोलकाता पहुँचे थे। पेश हैं उनसे हुई बातचीत के प्रमुख अंश –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × 5 =