चट्टान में धंसी मिली 700 साल पुरानी रहस्यमय तलवार, किंग आर्थर से हो सकता है सम्बन्ध

0
79

लंदन : किंग आर्थर वाकई में थे या नहीं? साल की शुरुआत में मिले कुछ दस्तावेजों ने इतिहास में उनकी मौजूदगी को लेकर नए सिरे से दावे किए थे। लेकिन दस्तावेजों से ज्यादा पुख्ता सबूत अब एक बोस्नियाई नदी की गहराई में मिले हैं। नदी के भीतर चट्टान में धंसी एक तलवार की खोज की गई है जिसे ‘शाही एक्सेलिबुर’ माना जा रहा है जो किंग आर्थर की तलवार थी। पुरातत्वविदों को पत्थर में चौदहवीं शताब्दी की यह तलवार बोस्निया और हर्जेगोविना के पश्चिम में व्रबास नदी की गहराई में मिली है।
किंग आर्थर को लेकर कई पौराणिक कथाएं प्रचलित हैं। उन्होंने जिनेवा से शादी की, ‘नाइट्स ऑफ द राउंड टेबल’ का निर्देशन किया, एक्सेलिबुर तलवार को अपने पास रखा और गद्दार मोर्ड्रेड के साथ अपनी अंतिम लड़ाई के बाद उन्हें एवलॉन में दफना कर दिया गया। लेकिन क्या राजा आर्थर वास्तव एक राजा थे या सिर्फ सेल्टिक पौराणिक कथाओं के नायक? यह बहस सदियों से जारी है और इतिहासकार आर्थर के अस्तित्व को लेकर कोई पुष्टि नहीं कर पाए हैं।
दस्तावेजों के पुख्ता हुए अस्तित्व के दावे
हालांकि इस साल की शुरुआत के बाद राजा आर्थर को लेकर कई चीजें बदल गईं। इतिहासकारों को ब्रिटेन के ब्रिस्टल यूनिवर्सिटी में एक पुस्तकालय में मर्लिन, किंग आर्थर और होली ग्रेल के बारे में हस्तलिखित और पांडुलिपियों के सात टुकड़े मिले हैं। ये टुकड़े मूल रूप से फ्रांस के स्ट्रासबर्ग में 1,494 और 1,502 के बीच प्रकाशित हुए थे। इस आश्चर्यजनक खोज ने किंग आर्थर के अस्तित्व को लेकर दावों को और पुख्ता कर दिया है। कुछ लोगों का कहना है कि यह स्पष्ट प्रमाण है कि राजा आर्थर मौजूद थे।

10 मीटर की गहराई में मिली 700 साल पुरानी तलवार
व्रबास बोस्निया के केंद्र में 240 किलोमीटर लंबी एक नदी है, जो बंजा लुका शहर के पास है। खोजी गई प्राचीन तलवार को किंग आर्थर की माना जा रहा है। रिपब्लिका सर्पस्का म्यूजियम के पुरातत्वविद इवाना पांडज़िक के अनुसार 700 साल पुरानी तलवार नदी की सतह से लगभग 10 मीटर नीचे एक ठोस चट्टान में जड़ी हुई पाई गई। इसे बेहद संभालकर निकाला गया। पुरातत्वविदों ने ज़्वेलाज में स्थित एक मध्ययुगीन महल के खंडहरों के पास खुदाई करते हुए खोज की।

(साभार – नवभारत टाइम्स)

Previous articleक्या होता है पकड़ुआ बियाह, जानिए
Next articleत्वचा से त्वचा के स्पर्श का मामला : बॉम्‍बे हाईकोर्ट का फैसला सुप्रीम कोर्ट से खारिज
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

one + eight =