चलिए स्पष्ट विचार रखने और संवाद करने की शपथ लें – संध्या सुतोदिया

0
128

आईआईएम कोलकाता ( ईपीडी एस एम एम एस-04) डिजिटल और सोशल मीडिया रणनीति की प्रबंधक प्रोग्राम की पूर्व छात्रा और अब तूरिया कम्युनिकेशन एलएलपी की सह संस्थापक, संध्या सुतोदिया से शुभजिता की बातचीत हुई। उन्होंने बताया कि कैसे उन्हें अपनी सम्पर्क यानी कम्युनिकेशन एजेंसी की शुरुआत की और कैसे उनको सही संचार सहयोगी चयन करने की प्रेरणा मिली। इस बातचीत के कुछ संशोधित अंश:-

प्र. तुरिया कम्युनिकेशंस एलएलपी की कहानी क्या है?
2018 तक मैं एक स्वास्थ्य देखभाल ब्रांड में ही एक कॉरपोरेट संचार व्यवसायी के रूप में काम करती थी। फिर मुझे ऐसा अहसास हुआ कि मुझे जोखिम उठाना चाहिए और मुझे कुछ खुद के लिए कोई ऐसी कम्पनी या व्यावसायिक उपक्रम बनाना चाहिए जो जनसंपर्क, ब्रांडिंग और डिजिटल मार्केटिंग से मिलता जुलता हो। हालांकि इस योजना को अंजाम देने के लिए, मुझे वर्तमान व आधुनिक प्रौद्योगिकी का पूरा ज्ञान चाहिए था, व्यवसायिक रणनीति सीखनी थी। मेरी खोज मुझे आई. आई .एम के दरवाजे तक डिजिटल और सोशल मीडिया मार्केटिंग रणनीति सीखने ले गयी। अंततः जैसे ही मेरा कोर्स खत्म हुआ, मैं एक बड़ा कदम उठाने के लिए तैयार थी और मेरे व्यवसायी बनने के सपने को पर लग चुके थे, मैं अब एक डिजिटल मार्केटिंग, ब्रांडिंग और जनसंपर्क के एजेंसी का व्यवसाय करने के लिए तैयार थी, जो ग्राहकों को एक छत के नीचे उनकी समस्याओं का समाधान देगा| जब हम दिल से कोई सपना देखते हैं तो हमें उसे कभी भी बेकार नहीं जाने देना चाहिए क्योंकि सपने छोटे बीज के तरह है जो एक खूबसूरत कल तैयार करते हैं और हमारे लिए यह बेशक तुरिया कम्युनिकेशन एलएलपी ही था।
प्र. हमें अपने बारे में थोड़ा और बताइए?
मैं एक संचार व्यवसायी हूँ और इस क्षेत्र में मुझे 15 साल काम करने का अनुभव है। काम करते हुए मीडिया के और विभिन्न विभागों के साथ मेरे सम्बन्ध रहे हैं। मेरी पहुँच ब्रांड मैनेजमेंट, ग्राहकों की रणनीति संबंधी योजना, मीडिया और हितधारकों, संचार संकट, सीएसआर प्रोजेक्ट और विलयन/ अर्जन कर्ता तक है। पत्रकार के रूप में भी मुझे व्यावहारिक व उपयोगी अनुभव है। मैंने अंग्रेजी में परास्नातक, जनसंचार में स्नातकोत्तर और आईआईएम कोलकाता से डिजिटल और सोशल मीडिया रणनीति के लिए कार्यपालक प्रोग्राम की डिग्री ली है। मैंने चीनी भाषा( मंडारिन) मैं भी एचएसके 1 किया है। हर दिन एक नया दिन है। जैसे सूर्य हर दिन उगता है और अपनी उत्साह सिद्ध करता है, उसी तरह मैं भी महसूस करती हूं कि हर दिन नया है और उल्लेख के लायक है , इसलिए हमें हर दिन कुछ नया करना चाहिए और इस प्रतियोगी दुनिया में अतीत की उपलब्धियां मदद नहीं करेंगी। कुछ नया सोचिए, बदलाव के बारे में और बेहतर करने के बारे में सोचिए और उसे एक तय समय में पूरा कीजिए। वैसे ही जैसे समय, धारा और कार्य किसी का इंतजार नहीं करते।
प्र. तुरिया कम्युनिकेशन किस तरह से काम करती है?
हम एक एजेंसी है जो अपरंपरागत परिवर्तनात्मक लैब में काम करते हैं, जिसे हमारे तेज ब्रांड निर्माणकर्ता और अलग सोच की कहानी कहने वाले चलाते हैं। हमारा उत्साह अपने ग्राहकों को अगली पीढ़ी की सरल संचार की तकनीक और रणनीतियों का पालन करने के लिए आगे बढ़ाना है। हमें अपने ग्राहकों के बारे में जानना और उनके सफलता पर मेहनत करना अच्छा लगता है। हम ना सिर्फ संचार रणनीति बनाते हैं बल्कि हम अपने ग्राहकों को अच्छा संबंध बनाने में मदद करते हैं जिससे उन्हें अच्छा परिणाम मिल सके। हम संबंध बनाने में और अपने ग्राहकों को पारंपरिक और ऑनलाइन सरल संचार के माध्यम से उनके पसंद अनुसार कहानी बताने पर विश्वास रखते हैं। सरल संचार शब्द और वाक्य से कहीं ज्यादा है।
प्र. आप काम करने में किस-किस क्षेत्र की ओर केंद्रित है? क्या आप अपनी सेवाओं का विस्तार कर सकते हैं?
– हमारी एजेन्सी ब्रांडिंग मीडिया रणनीति और योजना, जनसंपर्क, डिजिटल और सोशल मीडिया मार्केटिंग, सोशल मीडिया का आकलन व मापदण्ड, मीडिया और मार्केटिंग ऑपरेशन मैनेजमेंट, मार्केट अनुसंधान, उभरते ट्रेंड्स और मुद्दों का विश्लेषण, इवेंट मैनेजमेंट, डैशबोर्ड क्रिएशन, रिपोर्ट बनाने और उसके प्रेजेंटेशन सबो के बीच करती है। हम डिजिटल और सोशल मीडिया मार्केटिंग की रणनीतिक आवश्यकता समझते हैं। इसलिए मार्केट के गतिशीलता को याद रख कर हम अपने ग्राहकों के लिए डिजिटल और सोशल मीडिया मार्केटिंग रणनीति बनाते हैं। पेड न्यूज़ पर वसीयत रणनीति की योजना के अनुसार बेहतर मीडिया संबंध और विज्ञापन में अपने सक्रियशीलता की मदद से खर्च बचाने में हम अपने ग्राहकों का सहयोग करते हैं। हम विस्तृत और रणनीतिक ब्रांड बिल्डिंग की सेवाएं प्रदान करते हैं और ब्रांड की जरूरतों के लिए विभिन्न संचार के समाधान करते हैं।
प्र. आप अपने पहले प्रोजेक्ट के बारे में हमें बताएं कि वह कितना सफल रहा और कितना सफल|
पेशेवर रवैये, मेहनत और निष्ठा के बल पर हमारी एजेंसी ने कई बड़ी और कठिन योजनाएँ सफलतापूर्वक पूरी कीं। हमारी कम्पनी 20 दिसंबर 2019 को बनी और हमे हमारा पहला शो 21 को गजल कलाकार पंकज उधास के साथ मिल गया क्योंकि हम ‘महफिल 2019’ ऑफिशियल यानी आधिकारिक डिजिटल पार्टनर थे। हमनें, दो आवश्यक उपकरण- डिजिटल मीडिया और सोशल मीडिया का उपयोग, इस कार्यक्रम के प्रचार – प्रसार के लिए किया। असल अनुभव हाथ से बनी चीजे सीखने का  था जब प्रयोग शुरू हुआ, तो वह वक्त बहुत मनोरंजन भरा था। कई बार हाथों से सुसज्जित करके लोगों तक पहुँचाने का प्रयास किया पर हमारे दृष्टिकोण से हमें शब्द को डिजिटल तरीके से फैलाने में सहयोगी रहा। अब बात इतने अलग हित धारकों के साथ काम करने की आती है तो मुझे इस दौरान कई बड़े पाठ सीखने को मिले जिनमें कारगर और पारदर्शी तरीके से कार्य करने का अनुभव मिला। इस पेशेवर दुनिया में, हम कुछ ही लोगों की असंख्य माँगें पूरी नहीं कर सकते पर काम करके उसके लिए सही वेतन पाना ही इस दुनिया का नियम है। इसलिए स्टार्टअप करने वालों को मेरी तरफ से एक ही सुझाव है- स्पष्ट और पारदर्शी तरीके से काम करें।
प्र. पहले COVID-19 और अब लोग वैश्विक मंदी की बात कर रहे हैं। इस बारे में आप क्या कहना चाहेंगी?
कोरोना वायरस एक वैश्विक संकट बन चुका है; जिस के प्रकोप में हम सभी  बंदी हैं। इस महामारी का डर पूरे विश्व में फैल चुका है। जिसके परिणाम स्वरूप हमें अभूतपूर्व सामाजिक और व्यापारिक उथल-पुथल का सामना करना पड़ेगा। इस उपस्थित मंदी के डर से हित धारकों में चिंता, उदासी और उनके प्रदर्शन में कमी ला सकती है। इसलिए ऐसे वक्त में संचार के सभी माध्यम खोलें और सकारात्मक रखें। आपके ग्राहक आप तक और आपके व्यापार तक तभी पहुंचेंगे, जब उन्हें आपके आर्गेनाईजेशन के बारे में जानकारी हो और साथ ही यह भी कि ऐसे वक्त में आप उन्हें किस तरह की सेवा देने का सामर्थ्य आपमें है। हालांकि यह संभव है कि अगर आप उनसे, अपने संचार के रास्ते बंद कर लेते हैं तो अंत में वह भी आपके आर्गेनाईजेशन से रुख मोड़ लेंगे। इसलिए आज के इस संकट के माहौल में, लगातार और अच्छा संचार और सम्पर्क ही व्यापार को जीवित रख सकता है।
प्र. आप विश्व आईएनसी को क्या सलाह देना चाहेंगी?
– मैं अभी बहुत छोटी हूं, इस व्यापार के गहरे समुद्र में एक छोटी मछली हूँ जो किसी को सलाह नहीं दे सकती। हालांकि मेरी व्यावसायिक समझ, मनोभाव और मांग एवं आपूर्ति के अनुभव से मैं कह सकती हूं कि इस समय कम्पनियों के लिए आने वाला समय कठिन होगा, उनको कठिन समय से गुजरना पड़ेगा| मैं कहना चाहूँगी कि लोग अपने कम्पनी के ब्रांड को मजबूत बनाने के लिए ज्यादा समय व्यतीत करें, सभी हित धारकों से स्पष्ट संवाद करते रहें और जनसंपर्क, डिजिटल और सोशल मीडिया की एक मजबूत आधार बनाएं। जैसा कि भारतीय सरकार ने 14 अप्रैल 2020 तक पूर्ण लॉग डाउन कर दिया है जिस कारण हम सामाजिक दूरी का पालन कर रहे हैं और इसी वजह से हमारे पास बहुत सारा खाली वक्त है। इस वक्त का उपयोग ऑर्गेनाइजेशंस ( बड़ी, छोटी या मध्यम वर्गीय) अपने ब्रांड को बढ़ाने में कर सकती है।
प्र. अभी तक आपको मिली सबसे अच्छी कौन सलाह क्या ?
– पैसों की बचत करो क्योंकि हो सकता है कल तुम्हारी कोई आमदनी ना हो।
प्र. तुरिया कम्युनिकेशंस को कम शब्दों परिभाषित कीजिए?
– थिंक कम्युनिकेशन, थिंक तुरिया!
तुरिया कम्युनिकेशन संचार की शक्ति पर विश्वास रखती है और हमारी एजेंसी दिन रात मार्केटिंग की दुनिया को बदलने में कड़ी मेहनत कर रही है। हमारी पहुँच पत्रकार, ब्लॉगर्स प्रभावशाली व्यक्तियों तक है और हम अच्छी पश्च पाने के लिए ग्राहकों को ऑनलाइन प्रेस विज्ञप्ति भी भेजते हैं, सोशल मीडिया में उल्लेख और हम उनके सर्च इंजन ऑर्गेनाइजेशन को भी बढ़ा सकते हैं। तुरिया कम्युनिकेशन में हम श्रेष्ठता प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है। इसलिए अगर हम नहीं, तो कौन?

तूरिया कम्यूनिकेशन्स के बारे में अधिक जानने के लिए आप इस वेबसाइट पर जा सकते हैं:-  https://www.turiyacommunications.com/
Previous articleहमार माटी
Next articleविषाद का साम्राज्य और कोरोना
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में पंजीकरण कर के लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। पंजीकरण करने के लिए सबसे ऊपर रजिस्ट्रेशन पर जाकर अपना खाता बना लें या कृपया इस लिंक पर जायें -https://www.shubhjita.com/registration/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 + 6 =