जागृति

0
120
प्रो. प्रेम शर्मा

अपराधी दंडित हों-ठीक है,
भ्रष्टाचारी प्रताड़ित हों-मान्य है,
दुराचारी अपमानित हों-स्वीकार है,
पापी का संहार हो-प्रशंसनीय है।

निरपराधी को अलग-थलग करना
पाप है,
सच को सच न स्वीकार करना
दुराचार है,
विध्वंशक लोकतंत्र का विरोध न करना-अनाचार है,
पापियों को दंडित न करना
अधर्म है।

सच्चा कोई मरे नहीं
शर्मिंदगी से,
निरपराधी घुट घुट कर जिए नहीं
आत्मग्लानि से
सदाचारी चरित्र बदले नहीं
विद्रोह में,
धर्मनिष्ठ तिल तिल मरे नहीं
अराजकता में।

जागृति का एक तांडव होना चाहिए
युग परिवर्तन का संकल्प होना चाहिए
आडंबर रहित समाज होना चाहिए
नव आशा उपहार सबको मिलना चाहिए।।

Previous articleपद्मश्री : लावारिस लाशों के ‘मसीहा’ हैं अयोध्या के शरीफ चाचा
Next articleगीत – समय कविता संग्रह को पढ़ते हुए
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eight + 12 =