दुनिया छोड़ चला विष्णु भक्त मगरमच्छ ‘बाबिया

0
21

तिरुवनंतपुरम । शाकाहारी मगरमच्छ बाबिया दुनिया को छोड़ चला है। बीते रविवार को बाबिया की मौत हो गई थी। बाबिया नाम का मगरमच्छ दुनिया का पहला ऐसा मगरमच्छ था, जो कि शाकाहारी था। बाबिया की उम्र करीब 70 साल बताई जाती है। बाबिया केरल के कासरगोड जिले स्थित श्री अनंतपद्मनाभ स्वामी मंदिर परिसर में बने तालाब में रहता था। जब बाबिया की अंतिम यात्रा निकाली गई तो हर किसी की आंखे नम दिखीं। इसके पीछे की वजह बाबिया की भगवान के प्रति अद्भुत भक्ति को माना जाता था।
भगवान विष्णु का अनन्य भक्त था बाबिया
बाबिया श्री अनंतपद्मनाभ स्वामी मंदिर परिसर में बने तालाब में ही रहा करता था। बाबिया को भगवान विष्णु का अनन्य भक्त बताया जाता था। वह दिन में दो बार तालाब से बाहर निकलकर आता था और मंदिर में जाकर दर्शन करता था। वहीं आने-जाने के दौरान बाबिया ने कभी किसी को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया। इसके साथ ही वह खाने में वही प्रसाद खाता था, जो कि भगवान विष्णु को भोग लगाया जाता था।
बाबिया को देखने जुट जाती थी भक्तों की भीड़
बाबिया नाम के मगरमच्छ को लेकर कहा जाता है कि पूरी जिंदगी में उसने कभी भी किसी को नुकसान नहीं पहुंचाया। तालाब में रहने के बावजूद वहां रहने वाली मछलियों तक को कभी बाबिया ने जरा सा परेशान तक नहीं किया। वह भक्तों के बीच कौतुहल का विषय था। जब भक्त मंदिर में आकर भगवान को भोग लगाते थे और मन्नत मांगते थे तो कोई ऐसा नहीं होता था जो दिल से बाबिया के दर्शन की चाह न रखता हो। सुबह और दोपहर की पूजा के बाद बाबिया को भोजन दिया जाता था, जो कि केवल प्रसाद ही खाता था।
1945 में तालाब में प्रकट हुआ था बाबिया
दुनिया के पहले शाकाहारी मगरमच्छ बाबिया के जन्म की कहानी भी बड़ी दिलचस्प है। उसके जन्म को लेकर बताया जाता है कि बाबिया साल 1945 में तालाब में प्रकट हुआ था। कहा जाता है कि साल 1945 में एक ब्रिटिश सैनिक ने मंदिर में मगरमच्छ को गोली मार दी थी। इसी के कुछ दिन बाद मंदिर के तालाब में बाबिया अपने आप ही प्रकट हो गया था।

Previous articleबाढ़ ने बढ़ाई मुसीबत, ग्रामीणों ने खुद ही डाली पुलिया
Next articleनहीं रहे ओआरएस के जनक डॉ. दिलीप महालनोबिस
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

10 + 17 =