धोबिया नाच… पीढ़ियों की विरासत जिंदा रखे हुए है गाजीपुर का यह कलाकार

0
14

गाजीपुर । देश में बहुत सी ऐसी विधाएं हैं, जो कि समय के साथ विलुप्त होती जा रही है। ऐसी ही एक मंचीय कला धोबिया नाच  है, जिसके कलाकार इस विधा को बचाने के लिए चिंतित है। गाजीपुर के सलटू राम विलुप्त होने की कगार पर पहुंच चुके, मंचीय कला धोबिया नाच को संरक्षित करने की जद्दोजहद में लगे हैं। एक वक्त था कि लगभग सभी मांगलिक कार्यों पर धोबिया नाच का आयोजन सामान्य रवायत का हिस्सा था। लेकिन, कालांतर में ब्रास बैंड और उसके बाद डीजे ने धोबिया नाच के कलाकारों को हाशिए पर ठेल दिया।
सलटू ने एनबीटीऑनलाइन को बताया कि यह विधा पिछले तीन पीढ़ियों से उनके परिवार में पीढ़ी दर पीढ़ी आगे बढ़ रही है। अब वह अपने बेटे को धोबिया नाच का हुनर सीखा रहे हैं। सलटू के दादा मुसन राम त्रिनिदाद टोबैगो के साथ अफ्रीकी देशों में अपने परफॉर्मेंस दे चुके हैं। सलटू अपने दादा की विदेशी यात्राओं के हवाई जहाज के टिकट और तस्वीरों को संरक्षित करके रखे हुए हैं।
बचपन की यादों में खो गए सलटू राम
सलटू अपने बचपन की यादों को ताजा करते हुए बताते हैं कि, एक दौर था जब लगभग हर मांगलिक अवसरों पर धोबिया नाच का परफॉर्मेंस होता था। धीरे-धीरे ब्रास बैंड और उसके बाद डीजे ने धोबिया नाच की विधा को हाशिए पर धकेल दिया। सलटू आगे बताते हैं कि उनके बाबा मुसन राम जब मंच पर चढ़कर वीर रस में आजादी की लड़ाई से जुड़ी घटनाओं का वर्णन अपनी मंचीय कला धोबिया नाच के माध्यम से वर्णित करते थे, तो मानो पूरा माहौल जीवंत हो जाता था। सलटू बताते हैं कि अब इस विधा के कुछ गिने-चुने कद्रदान ही रह गए हैं।
मॉरीशस के पीएम के स्‍वागत में धोबिया नाच
गाजीपुर के मरदह ब्लाक के पांडेपुर राधे गांव के रहने वाले सलटू बताते हैं कि कभी-कदार उनसे लोग संपर्क करते हैं और उनसे परफॉर्म करने के लिए कहते हैं। कभी कुछ संस्थाओं के तरफ से भी कार्यक्रम करने का निमंत्रण मिलता है। सलटू ने पिछले दिनों मॉरीशस के प्रधानमंत्री के वाराणसी आगमन पर उनके स्वागत में धोबिया नाच का परफॉर्मेंस दिया था। वाराणसी में भी सलटू को परफॉर्म करने का मौका मिला था।
कैसे यह कला आगे बढ़े, यह सबसे बड़ी चिंता
सलटू की चिंता यह है कि जिस विधा को पीढ़ी दर पीढ़ी आगे जाना चाहिए, वह विलुप्त होने की कगार में है।अब धोबिया नाच के गिने-चुने कलाकार ही रह गए हैं। सलटू बताते हैं कि जहां लोग डीजे ऑर्केस्ट्रा को महंगे दरों पर बुक करते हैं, वही धोबिया नाच के कलाकारों को कुछ पैसों की ही आमदनी इस परफार्मिंग आर्ट से हो पाती है। सलटू की मंडली में कुल 15 कलाकार हैं। प्रतिदिन 1200 से 2000 रुपए की आमदनी हर कलाकार को हो पाती है। धोबिया नाच का कार्यक्रम 1 दिन से लेकर 4 दिन तक के होते हैं। यह आयोजक के ऊपर निर्भर है कि वह कितने दिनों का कार्यक्रम रखते है।
जल्‍द सिंगापुर में करेंगे धोबिया नाच
सलटू अब तक दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, पूना, पटना, हैदराबाद के साथ ही दक्षिण कोरिया में भी अपनी कला का प्रदर्शन कर चुके हैं। सलटू ने यह भी बताया इसी साल जून के महीने में इंडियन काउंसिल आफ कल्चरल रिलेशन के जरिए उन्हें सिंगापुर में भी धोबिया नाच के परफॉर्मेंस करने का मौका मिल सकता है।
सलटू की इच्‍छा, आगे चलती रहे यह मंचीय कला
सलटू चाहते है कि उनको विरासत में मिली यह मंचीय कला आगे भी चलती रहे। अपने गांव और आसपास के गांव के युवाओं को इस मंचीय कला की बारीकियों को सीखा रहे हैं। उनसे फिलहाल मुन्नी लाल, लवकेश, लबटु, अमलेश आदि युवा धोबिया नाच सिख रहें है। सलटू के शागिर्द मुन्नी लाल ने बताया कि वह इस कला को सिर्फ आजिविका के साधन के तौर पर नहीं देख रहे हैं। उन्हें इस मंचीय कला से भावनात्मक जुड़ाव है। किसी दौर में यह कला बड़े फक्र के साथ मंचित की जाती है। उनके बाप,दादा बड़े ही चाव से इसको देखते थे। इसमें सामाजिक सरोकारों के मुद्दों की बात होती थी। ऐसे में इस कला से साथ आमजन मानस का जुड़ाव बन जाना स्वाभाविक ही था। वह चाहते है कि यह कला पीढ़ी दर पीढ़ी चलती रहे।
रिपोर्ट – अमितेश कुमार सिंह
(साभार – नवभारत टाइम्स)

Previous article लावारिसों को अपनों सा सम्‍मान दे रहीं मुजफ्फरनगर की शालू
Next articleहाईवे के बीच आ रहा 134 साल पुराना मंदिर, नींव समेत किया जाएगा स्थानांतरित
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

12 + fifteen =