नगालैंड का ‘रुजाहो’ गाँव: यहां नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने बनाई थी पहली प्रशासनिक टीम

0
202
रुजाहो गांव, यहां नेताजी ने पहली बार गठित किया था प्रशासनिक ढांचा।

ब्रिटिश सैनिकों को बंदी बनाकर इसी गाँव में लाई थी फौज

तमल सान्याल ने बताते हैं- नगालैंड की पहाड़ी पर ‘रूजाहो’ गांव है, जो डिमापुर से 80 किमी और कोहिमा से 45 किमी की दूरी पर है। वहां से तत्कालीन बर्मा (अब म्यांमार) की दूरी करीब 200 किमी है। अप्रैल 1944 में बोस व उनकी आजाद हिंद फौज पहली बार इस गाँव में पहुंची थी। इस गांव में पहली बार आजाद हिंद सरकार प्रशानिक टीम का गठन किया गया था। टीम में पहली बार गाँव बूढ़ा (ग्राम प्रधान की तरह एक पद) सृजित किया गया था। उस वक्त पंचायत का प्रशासनिक ढांचा क्या था? इस पर अभी रिसर्च चल रहा है। साल 2017 में इंडियन काउंसिल ऑफ हिस्टोरिकल रिसर्च ने नेशनल सेमिनार भी किया था। नगालैंड और त्रिपुरा के गवर्नर भी उस सेमिनार में शामिल हुए थे। सान्याल बताते हैं – रूजाहो गांव करीब 15 किमी दूर जेसामी में ब्रिटिश सेना और आजाद हिंद फौज के बीच युद्ध हुआ था। फौज ने सैकड़ों ब्रिटिश सैनिकों को हराकर बंदी बना लिया था और उन्हें गांव ले आई थी। गांव के एक घर में नेताजी सुभाष चंद्र बोस अपनी फौज के साथ 9 दिनों तक रुके थे। वह कमरा आज भी वहां मौजूद है। कमरे में लकड़ी का एक तख्त था, जिस पर बोस पुआल बिछाकर सोते थे। चूल्हे पर खाना बनता था।

नेताजी ने बपोसूयुवी स्वोरो को पहला ग्राम प्रधान नियुक्त किया था, आज भी जीवित।

आज भी जीवित नेताजी द्वारा नियुक्त ग्राम प्रधान

सुभाष चंद्र बोस ने रूजाहो गांव में पहली बार गाँव बूढ़ा (ग्राम प्रधान) बपोसूयुवी स्वोरो को नियुक्त किया था, जो आज भी जीवित हैं। इनके मातहत 10 लोग और नियुक्त हुए थे। बपोसूयुवी की उम्र 100 साल से ज्यादा है। वे आजाद हिंद फौज और ग्रामीणों के लिए ट्रांसलेटर का भी काम किया करते थे। नौ दिन के प्रवास के बाद नेताजी सुभाष चंद्र बोस फौज की रणनीति बनाकर गांव से चले गए थे। इस दौरान ब्रिटिश बॉम्बर ने कुछ दूरी पर पहाड़ी पर बम गिराया था।

पहाड़ी से नीचे उतरकर महिलाओं ने पहुँचाया था पानी

नेताजी के जाने के बाद भी फौज गांव में थी। जून-जुलाई में भयंकर बारिश हुई। इस प्राकृतिक आपदा से आजाद हिंद फौज को काफी दिक्कत हुई। रुजाहो गांव में फौज के लिए रसद पहुंचना बंद हो गया था। लोग भूखे रहने लगे। ग्रामीण किसी तरह पहाड़ी से नीचे जाकर फौज के लिए पीठ पर पानी लाती थी। गोला बारूद, हथियार फौज को पहुँचना बंद हो गया था। जिसकी वजह से वहां से फौज को दूसरी जगह स्थानान्तरित होना पड़ा था।

ऐतिहासिक स्थली बन सकता है गाँव

तमल सान्याल ने बताया कि, अभी गांव में 826 घर हैं। 4000 के करीब आबादी है। एक प्राइमरी स्कूल और एक प्राइमरी अस्पताल है। मोबाइल का नेटवर्क गांव में नहीं है। पेयजल की समस्या है। महिलाओं को पानी के लिए पहाड़ी से नीचे उतरना पड़ता है। इससे करीब 8 किमी की दूरी पर चोजुबा एक जगह है, जहां ग्रामीणों को रोजमर्रा की चीजें मिल पाती हैं। गांव में ज्यादातर लोग किसान हैं। उन्होंने बताया कि, केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी और नगालैंड सरकार के कई लोगों से मिलकर गांव की स्थिति से अवगत कराया है। ऐतिहासिक स्थली के रूप में गांव को विकसित किया जा सकता है।

कौन हैं तमल सान्याल
तमल सान्याल ने 1990 से 2018 तक सीआरपीएफ में थे। उन्होंने बीएचयू से फिजिक्स से बीएससी की है और उसके बाद उन्होंने टूरिज्म का कोर्स भी किया। अब वो अपना जीवन नेताजी से जुड़े स्थानों को पहचान दिलवाने के लिए लगे हैं

( साभार –  तमल सान्याल से दैनिक भास्कर संवाददाता अमित मुखर्जी की बातचीत )

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

20 − 8 =