नवरात्रि में पोषक हो आपका आहार

0
32

नौ दिवसीय नवरात्रि उपवास 26 सितंबर से शुरू हो गए हैं और 4 अक्टूबर तक चलेंगे। शरद ऋतु के दौरान अश्विन के चंद्र महीने में पड़ने वाली नवरात्रि को शारदीय नवरात्रि कहा जाता है, जबकि मार्च या अप्रैल में मनाया जाने वाला नवरात्रि पहले वर्ष में चैत्र नवरात्रि कहा जाता है। इन दोनों नवरात्रि के दौरान देवी दुर्गा के भक्त सभी दिन उपवास रखते हैं।

उपवास के दौरान फलाहारी आहार का पालन किया जाता है और त्योहार के दौरान केवल चयनित अनाज या चावल जैसे सम के चावल, कुट्टू का आटा, राजगिरा आटा, सिंघाड़ा आटा, साबूदाना का उपयोग सात्विक भोजन तैयार करने के लिए किया जाता है, जबकि गेहूं, चावल, फलियां, प्याज, लहसुन का उपयोग नहीं किया जाता।

पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन, कार्ब्स, स्वस्थ वसा, विटामिन और खनिजों के साथ संतुलित भोजन करने से आपको उपवास के दौरान स्वस्थ रहने में मदद मिल सकती है। समय पर और पौष्टिक भोजन करने से डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, हृदय रोग जैसी पुरानी बीमारियों से पीड़ित लोगों को लक्षणों का प्रबंधन करने में भी मदद मिल सकती है। नवरात्रि उपवास के दौरान अच्छी तरह से हाइड्रेट रहना भी जरूरी है। फैट टू स्लिम की डायरेक्टर और न्यूट्रिशनिस्ट एंड डाइटीशियन शिखा अग्रवाल शर्मा बता रही हैं कि आप इन दिनों स्वस्थ रहने और ताजगी के लिए घर में कौन-कौन से पेय बना सकते हैं।

नारियल का माचासिर्फ तीन चीजों से बना माचा ड्रिंक एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर है और वास्तव में स्वादिष्ट हो सकता है। माचा को एक बड़े मग में डालें, गर्म पानी डालें और झाग आने तक तेज गति से फेंटें। नारियल का दूध और अपनी पसंद का स्वीटनर डालें। आप मेपल सिरप, खजूर या गुड़ का उपयोग करके नेचुरल मिठास जोड़ सकते हैं।

​संतरे के साथ नींबू पानी का रस

ताजा निचोड़ा हुआ संतरे का रस और संतरे के स्लाइस जोड़कर एक शानदार क्लासिक होममेड नींबू पानी बनाया जा सकता है। इस पेय का खट्टा-मीठा स्वाद पाचन में भी सहायता करता है। संतरे और नींबू की खुशबू इसे और बढ़िया सुगंध और स्वाद देती ह। यह पेय एंटीऑक्सीडेंट से भी भरपूर हो जाता है।

गोल्डन जूस

इसके लिए एक चुटकी काली मिर्च के साथ हल्दी और खजूर चाहिए। इन सभी चीजों को बादाम के दूध में डालकर मिक्स कर लें। स्वाद बढ़ाने के लिए एक चुटकी हिमालयन पिंक सॉल्ट मिला सकते हैं।

​ठंडी अदरक और हरी चाय

गर्म ग्रीन टी पीने की हमेशा सलाह दी जाती है। लेकिन चलिए इसे ठंडा पीने का भी एक अलग आनंद है। ग्रीन टी को ठंडा करें और उसमें थोड़ा सा नींबू, शहद और ताजा निचोड़ा हुआ अदरक का रस मिलाएं। इसे पुदीने की पत्तियों से गार्निश करें।

​तरबूज और तुलसी का रस

इसे बनाने के लिए आपको एक चुटकी काला नमक, ताजा तुलसी और नींबू का रस चाहिए। सभी चीजों को मिक्स कर लें। इसमें तरबूज के टुकड़े डाले जा सकते हैं। ऊपर से बर्फ के टुकड़े डालकर सर्व करें। यह निश्चित रूप से आपको तरोताजा कर देगा और आपको आने वाले लंबे दिन के लिए रिचार्ज करेगा।

​ चिया-कोको वाटर

ताजा नारियल पानी एक अच्छा डिटॉक्स है और इसे बेहतर बनाने के लिए इसमें चिया सीड्स मिक्स करें। ये छोटे बीज फाइबर, प्रोटीन और एंटीऑक्सीडेंट के बढ़िया स्रोत हैं। आप चिया सीड्स की जगह तुलसी के बीज भी ले सकते हैं। इसके अलावा आप इसमें नीबू का रस मिला सकते हैं ताकि इसे एक टेंगी ट्विस्ट दिया जा सके।

(साभार – नवभारत टाइम्स)

Previous article“सीआईएससीई नेशनल स्पोर्ट्स एवं गेम्स टेनिस टूर्नामेंट 2022” का भव्य उद्घाटन
Next articleराजू श्रीवास्तव : सबके दिल में बस गये गजोधर भइया
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

10 + thirteen =