नृत्यक्षेत्र द्वारा नाट्यदर्शन और कृष्ण प्रिया की प्रस्तुति

0
108

 कोलकाता । प्रसिद्ध नाट्यकला केंद्र नृत्यक्षेत्र द्वारा गत सोलह जून को ज्ञान मंच सभागार में अपने शिष्यों और वरिष्ठ महान शिष्य कलाकारों के साथ नृत्य का आयोजन किया गया। प्रमुख रूप से ‘नाट्य दर्शन’ और ‘कृष्णप्रिया’ की प्रस्तुति की गई जो विलक्षण नृत्य प्रतिभा को व्यक्त करती है । इस पूरे प्रोडक्शन का श्रेय आचार्य अनुसूया घोष बनर्जी को जाता है जो प्रसिद्ध कोरियोग्राफर हैं।
आचार्य अनुसूया घोष बनर्जी भरतनाट्यम के गुरु पद्मश्री चित्रा विश्वेश्वरन और डॉ पद्मा सुब्रमण्यम की शिष्या हैं। नृत्य में भरतनाट्यम, ओडिसी और कत्थक तीनों शास्त्रीय नृत्यों का प्रयोग रहा । भवानीपुर एजूकेशन सोसाइटी कॉलेज के विद्यार्थियों को नृत्य की शिक्षा दे रही नृत्यांगना संचयिता मुंशी साहा ने इस नृत्यकला का परिचय दिया उनकी गुरु प्रसिद्ध कोरियोग्राफर अनुसुइया घोष बनर्जी हैं जिनके निर्देशन में इस नृत्य की कोरियोग्राफी की गई। चेन्नई के गुरुकुल से जुड़ी नृत्य गुरु अनुसुइया दिल्ली, गाजियाबाद में खेतान पब्लिक स्कूल में परफार्मिंग आर्ट की कल्चरल हेड हैं और उन्हें आर्ट इनटिग्रिशन और सी लर्निंग से जुड़े कार्यक्रम में महारत हासिल है।
नृत्यांगना अनुसुया घोष बनर्जी ने नृत्य के माध्यम से नाट्यदर्शन में नाट्यकला के माध्यम से जीवन के विभिन्न रूपों को अभिव्यक्ति प्रदान की। नृत्य किस प्रकार हमारे मन, मस्तिष्क और आत्मा से जुड़ा हुआ है, बताया। दर्शन और अध्यात्म के भावों को नृत्य के द्वारा नृत्यक्षेत्र की बीस से अधिक नृत्यांगनाओं द्वारा बेहतरीन प्रस्तुति दी गई ।भारतीय नृत्य जीवन दर्शन और उत्सव का प्रतीकात्मक रूप है। नाटक ब्रह्म से साक्षात्कार कराने का माध्यम तो है ही, साथ ही भारतीय मूल्यों, संस्कृति और संस्कार के निर्माण में सहायक है। युवाओं को अधिक से अधिक शास्त्रीय नृत्य की ओर आकर्षित करने के लिए नृतयक्षेत्र कला संगीत और नृत्य की शिक्षा देने के लिए कृतसंकल्प है।यह नृत्य प्रस्तुति सोलह जून को हुई है। इस कार्यक्रम की जानकारी दी डॉ वसुंधरा मिश्र ने ।

Previous articleचिड़िया से टकराकर हवा में बंद हुआ विमान का इंजन
Next articleनैसकॉम के सदस्य पहुँचे एचआईटीके, युवा उद्यमियों को दिखायी राह
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

14 + five =