पत्तियों से पर्यावरण के अनुकूल कपड़े बनाती हैं अरुंधति

0
173

अरुंधति कुमार का स्टार्ट अप ‘बीज’ टिकाऊ वस्तुओं यानी सस्टेनेबल मटेरियल को बढ़ावा देता है। वे अनानास, कैक्टस, कोर जैसे मटेरियल से फैशनेबल ऐसेसरीज बनाती हैं। अरुंधति की मां बंगाली हैं। वे एक भरतनाट्यम डांसर हैं जो हैंडलूम साड़ियां पहनना पसंद करती हैं। इसलिए अरुंधति ने हैंडलूम मटेरियल अपने घर में करीब से देखे। उन्होंने अजमेर के मेयो कॉलेज से अपनी पढ़ाई की। एक बार यूरोप में छुटि्टयां बिताने के बाद उन्हें जलवायु परिवर्तन की वजह से होने वाले नुकसान का अहसास हुआ। तब उन्होंने अपने स्टार्ट अप के बारे में सोचा और वहां से आकर इसकी शुरुआत की।
अरुंधति बैग, वॉलेट और क्लच जैसी एसेसरीज बनाने के लिए रिसाइकिल और बायोडिग्रेडबल वस्तुओं का उपयोग करती हैं। सबसे पहले उन्होंने उदयपुर के ताज लेक पैलेस और जयपुर के रामबाग पैलेस में नौकरी की। यहां से उन्हें लग्जीरियस लाइफ स्टाइल का पता चला। वे कहती हैं – ”राजस्थान ने मुझे हमेशा प्रभावित किया है। यहां के संगीत, नृत्य, रंग और फैब्रिक ने मेरे जीवन पर अमिट छाप छोड़ी है”। अरुंधति ने अपना 40 वां बर्थडे मनाने के बाद एक बार फिर यूरोप ट्रिप की। यहाँ जलवायु परिवर्तन के नुकसान के बारे में उन्होंने जाना। उसके बाद ईको फ्रेंडली ऐसेसरीज को बढ़ावा देने के लिए अपने स्टार्ट अप के अंतर्गत इस उद्यमी ने मैक्सिको की कंपनी में विकसित किए गए मटेरियल नोपल कैक्टस का उपयोग किया। ये बहुत मुलायम लेदर होता है जिसका उपयोग हाई एंड लग्जरी प्रोडक्ट बनाने में किया जाता है।

Previous articleपरिवार की सुरक्षा के लिए उनसे दूर हैं पहली महिला एंबुलेंस ड्राइवर सलीमा
Next articleबीएचएस के पूर्व छात्रों ने की यास पीड़ितों की सहायता
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twelve + 11 =