पर्यटक हाईवे में बदलेगी लेह से कारगिल की सड़क, हर 25 किमी पर खुलेगा ऑक्सीजन पार्लर

0
139

लेह : लेह से कारगिल जाने वाली सड़क को पर्यटक हाईवे का रूप दिया जाएगा। केंद्र सरकार के संस्कृति और पर्यटन मंत्रालय ने यह प्लान तैयार किया है। लेह-कारगिल के बीच करीब 230 किमी हाईवे पर नियमित अंतराल पर पर्यटकों के लिए तमाम सुविधाओं को डेवलप किया जाएगा। यहां हर 25 किमी की दूरी पर ऑक्सीजन पार्लर भी खोले जाएंगे। जिससे लेह से कारगिल का सफर आसान और आकर्षक होगा।
एक्शन प्लान तैयार
दुनिया में पर्यटन के क्षेत्र में कारगिल को पहचान दिलाने के लिए अब यहां पर्यटकों के लिए कई तरह की सहूलियतों को बढ़ाने का एक्शन प्लान तैयार हो रहा है। मंत्रालय को उम्मीद है कि कारगिल की रोड और एयर कनेक्टिविटी बेहतर होने पर घूमने के लिए स्विटजरलैंड आदि दूसरे देशों में जाने वाले भारतीय कारगिल, द्रास आदि इलाकों में घूमना पसंद करेंगे।
स्थानीय लोगों को मिलेगा रोजगार
केंद्रीय संस्कृति एवं पर्यटन राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार प्रहलाद सिंह पटेल ने न्यूज एजेंसी को बताया कि लेह-लद्दाख से कारगिल जाने वाले रास्ते पर अभी जनसुविधाएं नहीं हैं। हम चाहते हैं कि हाईवे पर हर 20 से 25 किलोमीटर पर ऑक्सीजन पॉर्लर खोले जाएं। जहां ऑक्सीजन की व्यवस्था के साथ चिकित्सकीय सुविधा भी हो। कूड़े के भी प्रबंध हों। ये इंफ्रास्ट्रक्चर सरकार बनाएगी, लेकिन चलाएंगे इसे स्थानीय गांव के लोग।
धरोहरों की कल्चरल मैपिंग होगी
पटेल के मुताबिक, लेह-लद्दाख और कारगिल में स्थित सैकड़ों धरोहरों के बारे में अभी लोगों को ज्यादा जानकारी नहीं है। ऐसे में सभी धरोहरों की कल्चरल मैपिंग की भी पहल की जा रही है। लेह से कारगिल जाने वाले रास्ते पर कौन-कौन सी धरोहरें स्थित हैं, इसके बारे में मंत्रालय की वेबसाइट से जानकारी मिलेगी। लेह-कारगिल की सड़क को पर्यटन हाईवे बनाने से पर्यटकों को आसानी होगी। वे वेबसाइट पर जनसुविधाएं ढूंढ सकेंगे। टॉयलेट की भी ऑनलाइन जानकारी मिलेगी।
2019 में लद्दाख केंद्रशासित प्रदेश बना
दरअसल, अगस्त 2019 में लद्दाख के केंद्रशासित प्रदेश बनने के बाद मोदी सरकार का फोकस यहां के विकास पर है। स्थानीय लोग केंद्र सरकार से कारगिल में टूरिज्म प्रमोशन की मांग कर चुके हैं। लद्दाख के सांसद जामयांग सेरिंग नामग्याल का कहना है कि लोग आज भी कारगिल को 1999 की लड़ाई की रोशनी में देखते हैं, जबकि कारगिल वॉर जोन नहीं, बल्कि पीस जोन बन चुका है। यहां पर पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं। रूरल टूरिज्म से लेह-लद्दाख और कारगिल में रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे।
विंटर स्पोर्ट्स और एडवेंचर टूरिज्म की तैयारी
कारगिल की तरफ दुनिया का ध्यान खींचने के लिए यहां विंटर स्पोर्ट्स और एडवेंचर टूरिज्म को बढ़ावा देने की कोशिशें केंद्र सरकार की तरफ से चल रही हैं। कश्मीर के गुलमर्ग की तरह अब कारगिल में भी इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ स्कीइंग एंड माउंटेनिरिंग खोलने की तैयारी है। कारगिल में जमीन की तलाश हो चुकी है। सूत्रों के मुताबिक, दो साल मेंं यहां इंस्टीट्यूट बनकर तैयार हो जाएगा। जिससे स्थानीय और बाहरी युवा साहसिक खेलों की ट्रेनिंग लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में हिस्सा ले सकेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eleven − five =