फिजिक्स के मोशन इन वन डायमेंशन चैप्टर में गलती कर रहे 47% विद्यार्थी

0
169

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के ऐप के आंकड़ों से पता चला

अगर आपके घर में या परिचितों में कोई बच्चा इंजीनियरिंग या मेडिकल प्रवेश परीक्षा की तैयारी कर रहा है या ऐसा इरादा रखता है तो यह आपके काम के आंकड़े हैं। जेईई या एनईईटी में करीब 47% छात्र फिजिक्स में ‘मोशन इन वन डायमेंशन’ और केमिस्ट्री में ‘साॅल्युशन एंड कॉलिगेटिव क्वालिटी’ पर प्रश्नों के सही उत्तर नहीं दे पाते।

मैथ्स में भी ‘कंटीन्युटी एंड डिफरेंशिएबिलिटी’ चैप्टर से पूछे गए सवालों को 40% छात्र हल नहीं कर पाते। वहीं, 37% छात्र बायोलॉजी में ‘रेस्पिरेशन इन प्लांट’ के सवालों का सही उत्तर नहीं दे पाते। ये निष्कर्ष नेशनल टेस्टिंग एजेंसी की ओर से जेईई और एनईईटी की तैयारी कर रहे छात्रों की प्रैक्टिस के लिए बनाए गए मोबाइल ऐप ‘अभ्यास’ के आंकड़ों से सामने आया है। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के महानिदेशक विनीत जोशी कहते हैं कि अभ्यास ऐप के पीछे विचार ही यही था कि छात्र जान सकें कि उनसे गलतियां कहां हो रही हैं। सभी विषयों के जिन चैप्टरों में छात्र गलतियां कर रहे हैं उनमें 10 ऐसे हैं जो इस बार बोर्ड परीक्षा के सिलेबस में नहीं हैं।

जानिए…किन पाठों में कितने छात्रों को आई कठिनाई

फिजिक्स

मोशन इन वन डायमेंशन 47%
रे ऑप्टिक्स 43%
इलेक्ट्रोस्टैटिक्स 43%
थर्मोडायनेमिक्स 38%
करेंट इलेक्ट्रिसिटी 33%
रे ऑप्टिक्स, थर्मोडायनेमिक्स और करेंट इलेक्ट्रिसिटी इस बार बोर्ड परीक्षा में नहीं हैं।
मैथ्स

कंटीन्युटी एंड डिफरेंशिएबिलिटी 44%
ट्रिग्नोमैट्रिकल इक्वेशन एंड इनइक्वेशन 40%
परम्युटेशन एंड कंबिनेशन 39%
फंक्शंस 37%
इन्वर्स ट्रिग्नोमैट्रिक फंक्शंस 36%
(कंटीन्युटी एंड डिफरेंशिएबिलिटी और इन्वर्स ट्रिग्नोमैट्रिक फंक्शंस बोर्ड परीक्षा में नहीं हैं।)
केमिस्ट्री

साॅल्युशन एंड कॉलिगेटिव प्रॉपर्टीज 47%
ब्लॉक एलीमेंट्स एंड हाइड्रोजन 37%
केमिकल काइनेटिक्स 35%
एटॉमिक स्ट्रक्चर 34%
केमिकल थर्मोडायनेमिक्स 32%
(ब्लॉक एलीमेंट्स, केमिकल काइनेटिक्स व केमिकल थर्मोडायनेमिक्स बोर्ड परीक्षा में नहीं हैं)
बायोलॉजी

रेस्पिरेशन इन प्लांट 38%
फोटोसिंथेसिस इन प्लांट 36%
मिनरल न्यूट्रीशन 33%
रिप्रोडक्शन इन ऑर्गेनिज्म 31%
ह्यूमैन हेल्थ एंड डिसीज 30%
(मिनरल न्यूट्रीशन और रिप्रोडक्शन इन ऑर्गेनिज्म बोर्ड परीक्षा से बाहर है)
54 लाख ने ऐप पर नीट, 28 लाख ने जेईई का मॉक टेस्ट दिया, (मई, 2020 से अब तक)
180 मिनट है टेस्ट के लिए निर्धारित समय
155 मिनट में पूरा हो रहा है नीट मॉक टेस्ट
156 मिनट में पूरा हो रहा है जेईई मॉक टेस्ट
(छात्रों को लगने वाला औसत समय)
जिस पेपर में समय ज्यादा, उसमें अंक कम
नीट में छात्र सबसे ज्यादा समय फिजिक्स को देते हैं लेकिन इसमें सबसे कम अंक पा रहे हैं। जेईई में छात्र मैथ्स में सबसे अधिक समय दे रहे हैं फिर भी इसमें अंक कम हैं। दोनों ही परीक्षाओं में छात्रों ने केमिस्ट्री में सबसे ज्यादा अंक हासिल किए।

जेईई और सीईटी  के लिए फिजिक्स, केमेस्ट्री मैथ्स अनिवार्य रहेंगे
इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए राष्ट्रीय स्तर पर जेईई या राज्यों में होने वाली सीईटी जैसी परीक्षा के लिए फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स की अनिवार्यता बनी रहेगी। एआईसीटी के चेयरमैन प्रो. अनिल दत्तात्रेय सहस्रबुद्धे ने साफ किया कि नियमों में बदलाव कर उन छात्रों के लिए दाखिले का विंडो खोला गया है जिन्होंने 12वीं में ये विषय नहीं पढ़े। बिना इन विषयों को पढ़े किसी को इंजीनियरिंग में दाखिला देने का फैसला विश्वविद्यालय, तकनीकी संस्थान और राज्यों को करना होगा। हालांकि ऐसे छात्रों को पहले वर्ष में अनिवार्य रूप से तीनों विषयों का ब्रिज कोर्स करना होगा। प्रो. सहस्रबुद्धे ने तर्क दिया कि 10वीं के बाद पॉलीटेक्निक से मेकेनिकल, सिविल और इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में तीन साल का डिप्लोमा कर चुके छात्रों को BE या B.Tec में सीधे सेकंड इयर में लेटरल एंट्री दी जाती रही है। एक दशक पहले इंजीनियरिंग में केमिस्ट्री को ऑप्शनल बनाया गया था। इसके तहत किसी ने फिजिक्स, मैथ्स के साथ इंजीनियरिंग ड्राइंग, कंप्यूटर प्रोग्रामिंग, स्टैटिस्टिक्स या वोकेशनल एजुकेशन विषय लिया है तो उसे इंजीनियरिंग में दाखिला मिल सकता है। कंप्यूटर इंजीनियरिंग के छात्रों का कैरियर में केमिस्ट्री से वास्ता नहीं पड़ता। बायोटेक्नोलॉजी या बायोइंफोर्मेटिक्स ऐसी ब्रांच हैं जिसमें बायोलॉजी होने से ज्यादा फायदा है। सीबीएसई और ओपन स्कूल में 12वीं में एग्रीकल्चरल केमिस्ट्री विषय है, जबकि एग्रीकल्चरल इंजीनियरिंग में दाखिले के लिए केमिस्ट्री अनिवार्य है। प्रो. सहस्रबुद्धे ने कहा, नई शिक्षा नीति के मुताबिक ही नियमों में लचीलापन लाया गया है।
(साभार – दैनिक भास्कर)

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

one × 5 =