बंगाल में पुनरूत्थान विषय पर बीबीए विभाग द्वारा संगोष्ठी

0
73

कोलकाता ।  भवानीपुर एजुकेशन सोसाइटी कॉलेज के व्यवसाय प्रशासन विभाग ने गत 7 मई 2022 की सुबह ‘बंगाल के पुनरुत्थान’ पर एक संगोष्ठी ‘कैलिडोस्कोप’ का आयोजन किया। दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया।सेमिनार विद्यार्थियों के जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा है और आधुनिक शिक्षा की दिशा में एक अभिनव कदम है। यह न केवल नई चीजें सीखने के लिए बल्कि नए विचारों और सूचनाओं को साझा करने के लिए विशेष महत्व रखता है साथ ही पीढ़ी के अंतर को पाटने और वर्तमान पीढ़ी के विद्यार्थियों को ज्ञान की उचित दिशा देता है। साथ ही ज्ञान अवसर, उपलब्धि, सफलता और धन के द्वार खोलता है
इस अवसर पर निर्देशक देवेश शर्मा और अदिबा खान ने चयन दासानी और ज़राफशान सुल्ताना के साथ पैनलिस्टों का परिचय कराया। पैनलिस्टों को उनकी उपस्थिति के लिए सम्मानित किया गया।
पांच प्रमुख वक्ता पैनलिस्टों ने ‘बंगाल के पुनरुत्थान’ पर अपने महत्वपूर्ण विचारों को व्यक्त किया और वे बंगाल के भविष्य को कैसे देखते हैं? इस पर बात की। भवानीपुर एजुकेशन सोसाइटी कॉलेज के महानिदेशक कार्यक्रम के मॉडरेटर प्रोफेसर डॉ सुमन कुमार मुखर्जी ऑल इंडिया मैनेजमेंट एसोसिएशन के फेलो हैं, यूएसएईपी (यूएसएआईडी के तहत) के पर्यावरण फेलो हैं, उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में 2014 में मदर टेरेसा पुरस्कार जीता और इंडो ब्रिटिश स्कॉलर्स एसोसिएशन के सदस्य हैं।
संगोष्ठी ‘बंगाल के पुनरुत्थान’ पर एक संक्षिप्त टिप्पणी के साथ आरंभ हुई। उन्होंने अपने वक्तव्य में बताया कि कैसे एक प्रिज्म एक बहुरूपदर्शक से अलग है। उन्होंने एमएसएमई क्षेत्र जैसे अपनी ताकत बताते हुए पश्चिम बंगाल के भविष्य पर चर्चा की। फिर उन्होंने भारी उद्योगों पर ध्यान केंद्रित किया जिनमें सुधार की आवश्यकता है। इसके अलावा, उन्होंने चर्चा की कि कैसे बंगाल राजनीतिक और आर्थिक रूप से सांस्कृतिक रूप से बदल रहा था और मैकेंज़ी मॉडल की रणनीतियों का पालन कर रहा था।
अंबुजा निवेटिया समूह के अध्यक्ष ॉहर्षवर्धन नेवटिया सर्वप्रथम अपनी बात कही और बंगाल के पुनरूत्थान विषय पर अपनी राय रखी। आशावादी रूप से यह कहकर शुरुआत की कि यदि हम दशकों पहले बंगाल की स्थिति को देखें, तो हमें यह भी देखना चाहिए कि पिछले कुछ वर्षों में बंगाल में क्या हुआ है और स्थिति में सुधार हो रहा है, लेकिन यह बेहतर हो सकता है। उन्होंने कहा कि बुनियादी ढांँचे में उल्लेखनीय बदलाव आया है। हमें अपनी ताकत, रचनात्मक अर्थव्यवस्था पर ध्यान देना चाहिए क्योंकि कोलकाता को भारत की रचनात्मक बौद्धिक अर्थव्यवस्था के रूप में आसानी से प्रस्तुत किया जा सकता है।

अत्री भट्टाचार्य, आईएएस और पश्चिम बंगाल सरकार के अतिरिक्त मुख्य सचिव थे। उन्होंने अपने व्यक्तिगत अनुभवों को बारे में बात की जो बहुत ही रोचक रूप से प्रस्तुत किया जिसमें काफी विनोदी तत्व रहे। उन्होंने बंगाल के एचडीआई सूचकांक के शीर्ष छह में नहीं होने, नीली और नारंगी अर्थव्यवस्था और बंगाल ने मोड़ को कैसे पार किया, जैसी जानकारी साझा की। उन्होंने कहा, ‘संस्कृति आर्थिक विकास का वाहक है।’

उन्होंने सकारात्मकता का उल्लेख किया कि आय की असमानता में कमी आई है और सरकार को बुनियादी ढांचे और शासन पर ध्यान देना चाहिए। पश्चिम बंगाल में कुशल शैक्षणिक संस्थान हैं, घनी आबादी है, उपजाऊ कृषि भूमि है, एक बड़ा बाजार है और इन कारकों पर एक उचित ध्यान बंगाल को सकारात्मक दिशा में ले जा सकता है।
कलकत्ता चैंबर ऑफ कॉमर्स की अध्यक्ष शैलजा मेहता ने अपनी बात यह कहकर आरंभ की कि बंगाल में इसके लिए बहुत कुछ है और हमें अपनी मूल प्रतिभा पर ध्यान केंद्रित कर हम अपने कार्यों को क्रियान्वित कर बंगाल को वापस दे सकते हैं।
भारतीय विद्या भवन, कलकत्ता केंद्र के अध्यक्ष डॉ जी. डी गौतम, आईएएस (सेवानिवृत्त) ने अपने जीवन के कुछ उदाहरण साझा किए, उन्होंने देखा कि भारतीय लोगों से हमेशा बुद्धिमान होने की उम्मीद की जाती है। इन चर्चाओं के माध्यम से, उन्होंने लोगों को यह एहसास दिलाया कि हमें संसाधनों के मूल्य को कम नहीं आंकना चाहिए और अगर हम अपनी ताकत का विपणन करते हैं, तो यह अंततः विकास की ओर ले जाएगा।

असम सरकार के सलाहकार डॉ शिलादित्य चटर्जी, आईएएस (सेवानिवृत्त), ने आर्थिक पुनरुद्धार: संभावनाओं और संभावनाओं पर अपने शोध पर चर्चा की। उन्होंने अपनी विस्तृत प्रस्तुति के साथ इस विषय पर प्रकाश डाला, जिसकी शुरुआत इस बात से हुई कि कैसे बंगाल में औसत राज्य जीडीपी विकास दर और उच्च गरीबी दर में तुलनात्मक गिरावट आई है, जिसमें सुधार हुआ है। बंगाल के विभाजन से शुरू होकर, तुलनात्मक रूप से खराब मानव विकास, कृषि विकास के लिए एक सार्वजनिक ऋण की अधिकता और खराब औद्योगिक संबंध, उन्होंने उन कारकों पर चर्चा की, जिनमें सुधार की गुंजाइश है।

भवानीपुर एजुकेशन सोसाइटी कॉलेज के छात्र मामलों के प्रो डीन दिलीप शाह ने इस विषय पर विचार रखे और  बंगाल को विकसित करने के प्रयासों में भागीदारी का आह्वान किया। भवानीपुर एजुकेशन सोसाइटी कॉलेज के बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन विभाग के समन्वयक डॉ त्रिदीब सेनगुप्ता ने सभी गणमान्य व्यक्तियों को उनकी विशिष्ट उपस्थिति के लिए धन्यवाद दिया। प्रो. कौशिक बनर्जी ने संगोष्ठी के आयोजन में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इवेंट मैनेजमेंट टीचर – कोऑर्डिनेटर और इवेंट मैनेजमेंट टीम के साथ इवेंट ऑर्गनाइजर्स का सक्रिय योगदान रहा। कार्यक्रम की जानकारी दी डॉ वसुंधरा मिश्र ने ।

Previous articleकाश! जली हुई पार्वती का त्वचा प्रत्यारोपण करा पाते
Next articleसुशीला बिड़ला गर्ल्स स्कूल में मनाया गया मदर्स डे
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two × five =