बच्चों के साथ हिंसा को लेकर जागरुकता जरूरी : डॉ. शशि पांजा

0
52

भारत में यूनिसेफ इंडिया की 70वीं वर्षगाँठ

राज्य के साथ छेड़ी बच्चों के खिलाफ हिंसा के खात्मे की मुहिम
कोलकाता : यूनिसेफ इंडिया ने भारत में अपने 70 साल पूरे कर लिये हैं। गत 11 दिसम्बर को कोलकाता के निक्को पार्क में यूनिसेफ दिवस मनाया गया। इस अवसर पर राज्य की महिला विकास एवं बाल कल्याण मंत्री डॉ. शशि पांजा ने ध्वजारोहण किया। यूनिसेफ ने पश्चिम बंगाल सरकार बच्चों के साथ होने वाली हिंसा के खिलाफ मुहिम छेड़ने के लिए हाथ मिलाया है। इस अवसर पर डॉ. शशि पांजा ने कहा, हम अभिभावकों, समुदायों और बच्चों को ऐसी घटनाओं की शिकायत दर्ज करवाने को प्रोत्साहित कर रहे हैं। इसके साथ ही प्रशासनिक स्तर पर भी दोषियों के खिलाफ तुरन्त कार्रवाई करने को कहा जा रहा है।

रखें इन बातों का ध्यान
– अभिभावक बच्चों से बात करें और संवाद बनाये रखें।
– बच्चों को न कहना सिखायें।
– किसी प्रकार की समस्या होने पर चाइल्डलाइन नम्बर 1098 पर डायल करें और चाइल्ड वेलफेयर पुलिस अधिकारी अथवा नजदीकी पुलिस स्टेशन से सम्पर्क करें।
– अगर आप अपने पड़ोस, समुदाय या सड़क पर बच्चों के साथ होने वाली इस तरह की घटना देखते या सुनते हैं तो आवाज उठाइए, हस्तक्षेप करिये।
– बच्चों के साथ खड़े हों जिससे वे खुद को अकेला न समझें।

हमें ‘बचाव’ शब्द का महत्व समझना होगा।’ यूनिसेफ के प्रमुख (बंगाल) मोहम्मद मोहियुद्दीन ने कहा कि यूनिसेफ बंगाल सरकार, पुलिस, न्यायपालिका, समुदायों और बच्चों के साथ जागरुकता लाने के लिए काफ कर रहा है, साथ ही बच्चों के अनुकूल पुलिस स्टेशन तथा अदालतें भी बनायी जा रही हैं। स्कूल के साथ स्कूल जाने वाले रास्ते में भी बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए राज्य की ओर से विद्यालय सुरक्षा कार्यक्रम चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यूनिसेफ और राज्य सरकार अकेले यह काम नहीं कर सकते, सभी को आगे बढ़कर आवाज उठानी होगी। इस अवसर पर उपस्थित सभी बच्चो ने निक्को पार्क में झूलों का आनन्द उठाया। निक्को पार्क एंड रिसॉर्ट लिमिटेड के प्रेसिडेंट राजेश रायसिंघानी भी इस अवसर पर उपस्थित थे। यह जानकारी यूनिसेफ की सम्पर्क विशेषज्ञ (बंगाल) मौमिता दस्तीदार ने दी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

16 − 15 =