बच्चों को खेलों से जोड़ने के लिए एक साथ आए यूरो स्कूल और पूर्व क्रिकेटर जॉन्टी रॉड्स

0
452

कोलकाता : यूरोस्कूल ने हाल ही में एक प्रसिद्ध क्रिकेटर जोंटी रोड्स के साथ मिलकर एक कार्यशाला का आयोजन किया। कार्यशाला का मुख्य उद्देश्य समग्र शिक्षा के महत्व को बढ़ावा देना था जो शिक्षाविदों के साथ-साथ खेल और पाठ्येतर गतिविधियों पर समान ध्यान सुनिश्चित करता है। इस सत्र की शुरुआत बंगलौर के यूरोस्कूल व्हाइटफ़ील्ड की प्रिंसिपल श्रुति अरुण ने की, जिन्होंने जॉन्टी का स्वागत किया। इस एक घंटे की आभासी फिटनेस कार्यशाला में जोंटी ने विभिन्न व्यक्तिगत उपाख्यानों और कई शारीरिक अभ्यासों को साझा किया, जबकि हमेशा उन्हें एक मज़ेदार गतिविधि के रूप में रखने और किसी विशेष खेल की ओर बच्चे की ओर नहीं धकेलने पर जोर दिया। उन्होंने बच्चों के बीच खेल या अन्य पाठ्येतर गतिविधियों में उभरती रुचि की पहचान करने के टिप्स भी साझा किए। उन्होंने बताया कि कैसे उनके माता-पिता, जो शिक्षक थे, ने हमेशा उन्हें विभिन्न शारीरिक गतिविधियों के रूप में आनंद लेने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने यह भी साझा किया कि हॉकी और तैराकी जैसे विभिन्न खेलों को खेलना और उनके द्वारा सीखे गए जीवन के सबक ने उन्हें एक अच्छे क्षेत्ररक्षक बनने में मदद की। इस वेबिनार के दौरान, जॉन्टी ने बच्चों के लिए आयु-उपयुक्त अभ्यास से संबंधित कई वीडियो साझा किए। ये वीडियो विशेष रूप से विभिन्न आयु समूहों के लिए आयु-विशिष्ट अभ्यासों के साथ क्यूरेट किए गए थे: टॉडलर्स, प्री-प्राइमरी, प्राइमरी और मिडिल-टू-हाई स्कूल। उन्होंने फ़्लिप्ड कैच, क्रॉसओवर कैच जैसे अभ्यासों के महत्व पर जोर दिया जो हाथ की आँख के समन्वय में सुधार के लिए आदर्श हैं। चोट से बचने के लिए, उन्होंने स्वस्थ रहने के लिए बच्चों की दिनचर्या में कोर स्ट्रेंथ ट्रेनिंग और योग व्यायाम को शामिल करने पर जोर दिया।

बच्चों के लिए जॉन्टी रॉड्स के कुछ परामर्श

  • गरिमा के साथ जीतना, विपक्षी टीम को सम्मान देना बहुत जरूरी है
  • शारीरिक गतिविधियों को अपनी जीवनशैली का हिस्सा बनाये
  • सर्वश्रेष्ठ होने से जरूरी है निरन्तर सक्रिय रहना
  • वह क्षेत्र चुने जिसके प्रति आपमें आग्रह हो
  • मजबूत होने का मतलब शारीरिक रूप से ही ताकतवर होना नहीं है
  • योग को जीवन का नियमित हिस्सा बनायें

और कुछ हैं अभिभावकों के लिए  

  • बच्चों को जोखिम उठाने के लिए प्रेरित करें
  • बच्चों को असफल होने की छूट दें तभी बच्चा सफलता की ओर प्रेरित होगा
  • अनुशासन महत्वपूर्ण है मगर सन्तुलन भी जरूरी है
  • बच्चों के लिए खेल चुनते समय उम्र का ध्यान रखें
  • बच्चों के समग्र सन्तुलित विकास पर ध्यान दें
  • जरूरत पड़े तो माता – पिता अपनी जीवन शैली बदलें और बच्चों के लिए उदाहरण बनें
  • बच्चों को पोषक आहार दें, भले ही यह दवा की तरह हो
  • बच्चों पर दबाव न डालें
  • स्कूल ऐसा चुने जो समग्र विकास को प्रोत्साहन देता हो

व्यायाम (4 – 6 साल के बच्चे) – दौड़ना, कूदना, कैच एंड थ्रो, कई गेंदों का उपयोग एक साथ अदल -बदल कर करना (एक हाथ से दूसरे हाथ की गेंद  बदलना), लेमन एंड स्पून गेम, स्किटल्स, स्टॉक एंड टावर गेम

7 साल की उम्र से किशोरावस्था तक – गेंद कैच करना, एक या दो हाथ से कैच पकड़ना, दीवार पर गेंद मारना, फुटवर्क (फुटबॉल, हॉकी जैसे खेल, जिसमें पैरों का उपयोग अधिक हो), परछाई को देखकर गेंद पकड़ना, (इस उम्र में किसी विशेष खेल पर पकड़ बनने लगती है), एक हाथ से गेंद पकड़ें, दूसरे हाथ से फेकें. फ्लिप कैच, क्रॉस ओवर कैच, दो हाथ से 2 गेंदों के साथ फ्लिप कैच पकड़ना, 2 गेंदों के साथ क्रॉस ओवर कैच

 

 

Previous articleहिट हो गया खादी इंडिया का गाय के गोबर से निर्मित पेंट
Next articleअसमानता परम्परा तो हो नहीं सकती मगर साजिश जरूर लगती है
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fourteen + 11 =