बॉलीवुड-ओटीटी में साहित्य से कहानियां लेने के दौर की वापसी , अधिकार लेने की होड़

0
275

भारत में ओटीटी (ओवर द टॉप स्ट्रीमिंग) के बढ़ते बाजार के चलते ऑरिजनल कंटेंट की मांग जोर पकड़ रही है। नया, ऑरिजनल, सहज, मासूम, छोटे गांव-कस्बे, क्राइम थ्रिलर, सस्पेंस की कहानियां ओटीटी का नया बाजार है। इसके लिए प्रोडयूसर-डायरेक्टर ने अब फिल्म राइटर को दो लाइन देकर बेजान कहानी लिखवाने की जगह साहित्य के समुद्र से कहानियां निकालने का नया ट्रेंड शुरू किया है। एक जमाना था जब ‘गाइड’, ‘तीसरी कसम’, ‘नौकर की कमीज’, ‘शतरंज के खिलाड़ी’, ‘रजनीगंधा’, ‘सारा आकाश’ जैसी सुपरहिट फिल्में साहित्य की देन थीं। मौलिक और उम्दा सामग्री की कमी से जूझ रहे ओटीटी और बॉलीवुड ने एक दफा फिर से किताब जगत में गोते लगाकर बेहतरीन कहानियों की तलाश शुरू की है।

किताबें बन रही हैं फिल्मी कहानियों का बड़ा स्त्रोत
हाल ही में कई निर्माता – निर्देशक ने कुछ किताबों के अधिकार लिए हैं और कुछ प्रोडक्शन हाउस की प्रकाशन समूहों से सौदे के लिए बातचीत जारी है। सूत्रों का कहना है कि प्रोड्यूसर-डायरेक्टर अनुभव सिन्हा ने पहले पर्दे के लिए श्रीलाल शुक्ला के उपन्यास ‘रागदरबारी’ के अधिकार ले लिए हैं। नेटफ्लिक्स की टॉपहिट फिल्म ‘शी’ के निर्देशक अविनाश दास बताते हैं कि हाल ही में उन्होंने खुद निखिल प्रधान के अंग्रेजी उपन्यास ‘दि कोल्ड ट्रूथ’ के अधिकार लिए हैं। उनके अनुसार जिस तरह से किताबों के अधिकार लेने का काम चल रहा है, कहा जा सकता है कि इस वक्त किताबें फिल्मी कहानियों का बड़ा सोर्स बन रही हैं।

साल 2024 में भारत ओटीटी के लिहाज से दुनिया का छठा सबसे बड़ा देश बन जाएगा
वाणी प्रकाशन की निदेशक अदिति  महेश्वरी का कहना है कि मुंबई के प्रोडक्शन हाउस ने जिन किताबों के लिए संपर्क किया है। उनमें मनोहर श्याम जोशी और नरेंद्र कोहली के उपन्यास भी शामिल हैं। इनके अलावा वाणी ने हॉरर सीरीज में कई उपन्यास छापे थे। जिसमें कई प्रोडक्शन हाउस ने पूछताछ की है। साहित्यकार गीताश्री भी एक प्रोडक्शन हाउस के लिए यूपी पर आधारित कहानी लिख रही हैं। वह बताती हैं कि उनसे खासतौर पर उत्तर प्रदेश आधारित कहानियां मांगी गई हैं। ओटीटी के लिए भारत न केवल नया बल्कि सबसे तेजी से बढ़ते बाजारों में से एक है। साल 2024 में भारत ओटीटी के लिहाज से दुनिया का छठा सबसे बड़ा देश बन जाएगा। प्राइसवाटरहाउस कूपर्स (पीडब्ल्यूसी) की एक रिपोर्ट बताती है कि कोविड की वजह से ओटीटी के कारोबार को उछाल मिला है और यह लगातार जारी रहेगा।साल 2024 तक इसके 5 बिलियन डॉलर तक होने की संभावना है। इस वक्त देश में अंदाजन 40 ओटीटी प्लेटफॉर्म हैं। इतनी बड़ी तादाद  में ओटीटी प्लेटफॉर्म हैं और इतने ही लगभग पाइपलाइन में हैं, तो इसके लिए मौलिक कहानी भी चाहिए। जाहिर है जब प्लेटफॉर्म इतने हैं, तो कहानी भी चाहिए, जिसमें किताबें काम करेंगी।

जंगल के दावेदार’ से ‘बागी बलिया’ तक सबके राइट्स ले चुके फिल्मकार
नीलोत्पल मृणाल के उपन्यास ‘द डार्क हाउस’, शशिकांत मिश्रा के उपन्यास ‘नॉन रेजिडेंट बिहारी’ और सत्य व्यास के उपन्यास ‘बागी बलिया’ के राइट्स भी ले लिए गए हैं। राजकमल प्रकाशन के निदेशक अलिंद माहेश्वरी बताते हैं कि फिल्मों के लिए उनकी कई रचनाओं के राइट्स ले लिए गए हैं, लेकिन इसकी घोषणा प्रोडक्शन हाउस ही करें तो अच्छा है। अलिंद के अनुसार, जिन किताबों पर प्रोडक्शन हाउस से लगभग बात फाइनल है, वे हैं- महाश्वेता देवी का उपन्यास ‘जंगल के दावेदार’, नवीन चौधरी का ‘जनता स्टोर’, अनुराधा बेनीवाल का ‘आजादी मेरा ब्रांड’, अवधेश प्रीत का ‘अशोक राजपथ’, मनोहरश्याम जोशी का ‘कसप’ उपन्यास।

(साभार – दैनिक भास्कर)

Previous articleविनेश ने जीता यूक्रेन रेसलिंग टूर्नामेंट का खिताब
Next articleरिपोर्टर दीदी की क्लास – समाचार संरचना
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seventeen − 5 =