भवानीपुर कॉलेज के शिक्षक बने विद्यार्थी 

0
18

कोलकाता । जुबली सभागार में आयोजित गत 5 सितंबर को शिक्षक दिवस पर सभी शिक्षक विद्यार्थियों के रूप में कार्यक्रम में शामिल हुए। विद्यार्थी सर और मैडम बने और सभी शिक्षक और शिक्षिकाओं की अटेडेंस ली। शास्त्रीय संगीत नृत्य फिल्मों के नए पुराने नृत्य गीत अंग्रेजी हिंदी बांग्ला के गीत और लघु नाटिका प्रस्तुति दी गई जो विद्यार्थियों ने विशेषकर शिक्षक दिवस पर तैयार किए गए। सभी सांस्कृतिक कार्यक्रम एक से बढ़कर एक रहे। शाहरूख खान की नई पुरानी फिल्मों की प्रेम थीम पर रैंप और नृत्य का शिक्षकों ने आनंद उठाया। इन-एक्ट फ्लेम, क्रिसेंडो, आर्ट इन मी आदि विभिन्न कलेक्टिव के विद्यार्थियों ने विविध सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए ।
इस अवसर पर सभी शिक्षकगणों को उपहार नाश्ता और शुभकामनाएँ कार्ड दिए गए। उत्सव की शुरुआत शास्त्रीय नृत्य से ज्ञान की देवी सरस्वती के आह्वान से हुई। सुबह का उत्सव डॉ. सुमन मुखर्जी के भाषण के साथ संपन्न हुआ। शाम के सत्र में असंख्य छात्रों ने प्रदर्शन करते समय अपने शिक्षकों का उत्साहवर्धन किया और उनके निरंतर मार्गदर्शन के लिए उन्हें व्यक्तिगत रूप से धन्यवाद दिया। शाम को धन्यवाद ज्ञापन टीआईसी, डॉ. सुभब्रत गंगोपाध्याय, उपाध्यक्ष कला, सुश्री देबजानी गांगुली, डॉ. पिंकी साहा सरदार वी.पी विज्ञान विभाग द्वारा किया गया । पूरे दिन के इस कार्यक्रम में शिक्षकों के चेहरों पर खुशी और प्रसन्नता लाने के लिए विद्यार्थियों ने सराहनीय कार्यक्रम । उनकी उपस्थिति की न केवल सराहना की गई, बल्कि उसका जश्न भी मनाया गया, जो हमारे जीवन पर उनके गहरे प्रभाव के प्रमाण के रूप में काम करता है। अंत में, सभी ने याद किया कि शिक्षक हमारी शैक्षिक यात्रा के मार्गदर्शक सितारे हैं और इस दिन का उत्सव हमारे जीवन में जो प्रकाश लाते हैं, उसके प्रति हमारी असीम कृतज्ञता का एक छोटा सा प्रतीक था। यह एक ऐसा दिन था जब पुरानी यादों को सराहना मिली और शिक्षकों और छात्रों के बीच संबंध मजबूत हुए। विद्यार्थियों ने शिक्षकों के प्रति आभार व्यक्त किया क्योंकि वे उनके भविष्य को आकार देते हैं और हर दिन को वास्तव में ज्ञानवर्धक अनुभव बनाते हैं।
प्रो दिलीप शाह ने सभी शिक्षकों और विद्यार्थियों को शुभकामनाएँ देते हुए शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण बदलाव के विषय में मातृ संस्थान पर अपने विचार साझा किए। शिक्षक दिवस दो सत्रों में मनाया गया। इसकी रिपोर्ट रुचिका सचदेव और फोटोग्राफी पारस गुप्ता ने की। जानकारी दी डॉ वसुंधरा मिश्र ने ।

Previous articleगुरुजी सी. कैलाश के साथ तनाव से मुक्ति पाने पर विशेष सत्र के आयोजन की घोषणा
Next articleसंस्कृति की संवाहक होती हैं पुस्तकें –डॉ सत्या उपाध्याय 
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

nineteen + fourteen =